अलीगढ़: पुलिस को फ्लैगमार्च में क्यों पड़ी बुलडोजर की जरूरत? अधिकारियों ने साधी चुप्पी

अलीगढ़: पुलिस को फ्लैगमार्च में क्यों पड़ी बुलडोजर की जरूरत? अधिकारियों ने साधी चुप्पी
फोटो: शिवम सारस्वत, यूपी तक

अलीगढ़ में बीते शुक्रवार को अग्निपथ योजना को लेकर उपद्रव आगजनी, पथराव के मामले में पुलिस ने सख्त रुख अख्तियार कर फ्लैगमार्च किया था. दरअसल जनपद के टप्पल व जट्टारी सहित खैर इलाके युवकों ने अग्निपथ के विरोध में कई बसों को आग के हवाले कर दिया था. उपद्रवी यहीं नहीं रुके बल्कि एडीजी की कार में तोड़फोड़ करने के बाद पुलिस की कई गाड़ियों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया. इतना ही नहीं हिंसक विरोध प्रदर्शन करते हुए जट्टारी पुलिस चौकी को भी आग के हवाले कर दिया गया था. इसके बाद पुलिस ने इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया था.

अहम बिंदु

उपद्रवी व अवांछनीय तत्वों को कड़ा संदेश देने के लिए खैर तहसील के अमले व एसपी ग्रामीण ने पुलिस टीम के साथ संयुक्त रूप से बुलडोजर लेकर फ्लैगमार्च निकाला. खैर से शुरू हुआ ये फ्लैगमार्च गौमत चौराहा जट्टारी होते हुए टप्पल तक निकाला गया.

फ्लैगमार्च में बुलडोजर क्यों?

हालांकि अधिकारियों ने क्यों फ्लैगमार्च में तीन-तीन बुलडोजर को शामिल किया. इस पर उन्होंने चुप्पी साध ली है. दबी जबान में यही कह रहे हैं कि बुलडोजर की कार्रवाई को लेकर लोग डरें और किसी भी प्रकार से कानून को अपने हाथों में न लेने पाएं. जिले की कानून व्यवस्था पर कोई आंच न आए इसके फ्लैगमार्च में बुलडोजर को शामिल किया था.

टप्पल व खैर में हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन में अलीगढ़ पुलिस ने अभी तक 118 लोगों के विरुद्ध वैधानिक कार्यवाही की है. सोशल मीडिया पर लगातार निगरानी रखी जा रही है. एसएसपी कलानिधि नैथानी के अनुसार जितने लोगों को गिरफ्तार किया है उनके अभी हमने कोई पॉलिटिकल बैकग्राउंड नहीं देखा है. जिन लोगों ने घटना की है उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

4 मुकद्दमे टप्पल थाने में लिखे गए थे. उसके अलावा अफवाह फैलाने वाले 5 और अन्य मुकद्दमे अन्य थानों में लिखवाए गए थे. 68 लोगों को मुकद्दमे में जेल भेजा गया है. 50 के लगभग लोगों के विरुद्ध 151 धारा के अंतर्गत कार्यवाही की गई थी. दो दर्जन के करीब लोगों से सघन पूछताछ चल रही है. 11 कोचिंग संचालकों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई थी. इन्हें जेल भी भेजा गया है. जो संबंधित विभाग हैं वे इनकी मान्यता चेक कर रहे हैं.

UP Tak को दीजिए सुझाव और पाइए आकर्षक इनाम

दर्शकों से मिले बेशुमार प्यार की ताकत ही है कि इंडिया टुडे ग्रुप के Tak परिवार के सदस्य यूपी तक ने YouTube पर 60 लाख सबस्क्रिप्शन का आंकड़ा पार कर लिया है. हमें और बेहतर बनने के लिए सिर्फ 60 शब्दों में आपके बेशकीमती सुझावों की जरूरत है. सुझाव देने वाले चुनिंदा लोगों को हमारी तरफ से आकर्षक पुरस्कार दिए जाएंगे. यहां नीचे शेयर की गई खबर पर क्लिक कर बताए गए तरीके से अपने सुझाव हमें भेजें और इनाम पाएं.

अलीगढ़: पुलिस को फ्लैगमार्च में क्यों पड़ी बुलडोजर की जरूरत? अधिकारियों ने साधी चुप्पी
YouTube पर UP Tak परिवार 60 लाख पार, हम और बेहतर कैसे बनें? 60 शब्दों में बताइए, इनाम पाइए
अलीगढ़: पुलिस को फ्लैगमार्च में क्यों पड़ी बुलडोजर की जरूरत? अधिकारियों ने साधी चुप्पी
वीडियो: कानपुर में हिंसा के आरोपियों की अवैध संपत्ति पर चला योगी सरकार का बुलडोजर, देखिए

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in