window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

देवरानी ज्योति मौर्य और जेठानी शुभ्रा की कहानी एक जैसी, दोनों के साथ हुआ धोखा?

पंकज श्रीवास्तव

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Jyoti Maurya News: उत्तर प्रदेश की पीसीएस अधिकारी ज्योति मौर्य की जेठानी यानी आलोक की भाभी शुभ्रा मौर्य ने अपने पति विनोद मौर्य पर झूठ बोलकर शादी का करने आरोप लगाया है. साथ ही ससुराल पक्ष को दहेज का लालची भी बताया है. शुभ्रा मौर्य ने कहा है कि उसके ससुराल वालों ने शादी से पहले उसके पति को सरकारी अफसर बताया था, लेकिन वो जीएसटी विभाग में स्टोनोग्राफर पद पर है. इसकी शिकायत शुभ्रा मौर्य ने पुलिस में की है.

शुभ्रा ने लगाए ये आरोप

शिकायत में कहा गया है कि ससुराल वालों ने शुभ्रा के पिता से 5 लाख रुपये गृहस्थी के समान की मांग की थी. शादी के बाद ससुराल वाले उसे प्रताड़ित भी करते थे. उसकी शादी आलोक मौर्य की शादी से एक साल पहले हुई थी. शुभ्रा का आरोप है कि उसका पति शराब का आदी है और अक्सर मारपीट और मानसिक प्रताड़ना देता है.

‘जैसे आलोक ने झूठ बोलकर शादी की वैसा ही मेरे साथ भी हुआ’

\ज्योति मौर्य की जेठानी शुभ्रा मौर्य ने आरोप लगाया है कि ‘जैसे आलोक ने झूठ बोलकर शादी की वैसा ही मेरे साथ भी हुआ. जबकि शादी के कार्ड में विवेक मौर्य (शुभ्रा के पति) को इंटेलिजेंस ब्यूरो में कार्यरत बताया गया था. मगर वो महज स्टोनोग्राफर है.’

शुभ्रा सरकारी टीचर बनने के बाद बदल गई है: पति

शुभ्रा के अनुसार, वह 2015 में सरकारी टीचर बनी थी. वहीं, शुभ्रा के पति विवेक मौर्य के मुताबिक, “उसकी पत्नी भी ज्योति की तरह बदल गई है. वो परिवार से अलग रहती है. जब से वो सरकारी टीचर बनी है, तब से उसका स्वभाव बदल गया है. उसके लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं. उसको हमने पढ़ाया लिखाया लेकिन सब बेकार हो गया. शादी के कार्ड में जो इंटेलिजेंस ब्यूरो लिखवाया है. उस वक्त सिलेक्शन हो गया था, लेकिन नौकरी जॉइन नहीं की, इसलिए शादी के कार्ड में वो लिखवाया गया.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

आपको बता दें कि आलोक मौर्य और ज्योति मौर्य का मामला सामने आने के बाद अब इस तरह के कई मामले सामने आने लगे हैं.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT