window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

इंपैक्ट फीचर: प्राकृतिक चिकित्सा के जरिए बेहतर जीवन दे रहा ‘आरोग्यम आयुर्वेद’, जानिए इसके फायदे

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Impact Feature: प्राकृतिक चिकित्सा के जरिए लोगों का इलाज करने की दिशा में ‘आरोग्यम आयुर्वेद’ काफी असरकारक साबित हो रहा है. आरोग्यम आयुर्वेद की शुरूआत सबसे पहले डॉ. सतनाम सिंह और डॉ. हरवीन ने की थी. प्राकृतिक चिकित्सा के साथ और बिना किसी हानिकारक दुष्प्रभाव के हजारों लोगों का इलाज करते हुए, अपने उत्कृष्ट अनुसंधान और वर्षों के अभ्यास से, उन्होंने एक लंबा सफर तय किया है और आयुर्वेद चिकित्सा की महत्वपूर्ण मौजूदगी को चिह्नित किया है.

डॉ. सतनाम सिंह और डॉ. हरवीन ब्रिटिश संसद द्वारा और मैडम तनुजा नेसारी (अखिल भारतीय निदेशक) द्वारा भी सम्मानित किए जा चुके हैं. उन्होंने अपनी यात्रा में विशेष नाम कमाया है और नए प्रतिमान छुए हैं, खासकर आधुनिक चिकित्सा के क्षेत्र में आयुर्वेदा का परचम लहराया है. उन्होंने आयुर्वेद को नई पहचान दी है.

प्राकृतिक दवाओं से एलर्जी के इलाज में हैं एक्सपर्ट

आजकल एलर्जी की समस्या आम बीमारी जैसी हो गई है. प्राकृतिक दवाइयों के जरिए एलर्जी का उपचार करना डॉ. सतनाम सिंह और डॉ. हरवीन की विशेषताओं में एक है. उनके शोध, अनुभव, मेहनत और कठिन परिश्रम आखिरकार रंग लाए हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

क्या है आयुर्वेद?

डॉ. सतनाम सिंह और डॉ. हरवीन बताते हैं- ‘आयुर्वेद शब्द से हमारा तात्पर्य जीवन के ज्ञान से है. आयुर्वेद चिकित्सा ने साबित किया है की वह किसी भी बीमारी के इलाज का सबसे प्रभावी और प्राकृतिक तरीका है. यह किसी को ठीक करने के लिए जादुई रूप से काम करता है. बीमारी का इलाज और शरीर सुधार करता है. ये पूरी तरह से बेहतर जीवन शैली देता है.

आयुर्वेद के लाभ

डॉ हरवीन कौर ने आयुर्वेद के कई लाभ बताए हैं. उनके से ये प्रमुख हैं-

ADVERTISEMENT

  • वजन प्रबंधन – आयुर्वेदि के जरिए वजन घटाया जा सकता है.
  • तनाव प्रबंधन – आयुर्वेद चिकित्सा न केवल आपके शरीर को बल्कि आपके मानसिक हालात को भी ठीक करती है.
  • त्वचा और बाल – आयुर्वेदिक इलाज से आप खूबसूरत त्वचा और बाल पा सकते हैं बशर्ते आपको एक अच्छा और संतुलित आहार भी लेना होगा. जब आप इस रास्ते पर लम्बे समय तक चलेंगे तब आप अपनी त्वचा में जादुई निखार पाएंगे.
  • स्वास्थ्य जोखिमों को कम करता है – चाहे कोलेस्ट्रॉल हो, ब्लड प्रेशर हो या कोई बीमारी, आयुर्वेद उपचार से समाधान है. यह संतुलन बनाए रखने और इलाज करने में सहायक साबित हुआ है.

(यह इंपैक्ट फीचर प्रचार-प्रसार विभाग के सौजन्य से प्रकाशित किया गया है.)

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT