window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

उन्नाव में डिप्टी एसपी अब गोरखपुर में बनाए गए सिपाही, पत्नी और प्रेमिका के चक्कर में हो गया डिमोशन, गजब की है कहानी

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

unnao
unnao
social share
google news

Uttar Pradesh News : उत्तर प्रदेश के उन्नाव से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है. आमतौर पर नौकरियों में लोगों का प्रमोशन होता है लेकिन उत्तर प्रदेश के उन्नाव में एक पुलिस अधिकारी का डिमोशन हो गया और वो डिप्टी एसपी से सीधे कांस्टेबल बन गए हैं.  दरअसल, उन्‍नाव के सीओ कृपा शंकर कनौजिया को डिप्‍टी एसपी से डिमोट कर सिपाही बना दिया गया और इसकी वजह काफी हैरान करने वाली है.


महिला सिपाही के साथ होटल में पकड़े गए

बता दें कि  6 जुलाई 2021 में सीओ कृपा शंकर कनौजिया को एसपी उन्नाव ने किसी पारिवारिक कारणों से छुट्टी मंजूर की थी. हालांकि छुट्टी मंजूर हो जाने के बाद सीओ कृपाशंकर कनौजिया अपने घर नहीं गए थे बल्कि वह एक महिला सिपाही के साथ कानपुर के एक होटल में चेक इन किया था. जहां वह उसी होटल में महिला सिपाही के साथ पकड़े गए थे.


मोबाइल से खुला राज

दरअसल, महिला सिपाही के साथ होटल में चेकिंग करने के दौरान सीओ कृपाशंकर कनौजिया नेअपने प्राइवेट और सरकारी दोनों मोबाइल नंबर बंद कर दिए थे. वहीं दूसरा ओर सीओ के नंबर बंद होने के बाद उनकी पत्नी ने जब पता करने की कोशिश की तो महकमे से पता चला कि सीओ छुट्टी लेकर घर के लिए निकले थे. वहीं इस बात को लेकर सीओ की पत्नी ने एसपी उन्नाव को फोन करके मदद मांगी थी. उसी दौरान एसपी उन्नाव ने सीओ कृपा शंकर कनौजिया का मोबाइल सर्विलांस पर लगाया जब जाकर पता चला कि सीओ का मोबाइल नेटवर्क कानपुर के एक होटल में जाकर बंद हुई थी. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT


सीओ से बनाए गए सिपाही

इस पूरे मामले को लेकर उन्नाव पुलिस जब कानपुर के उस होटल पहुंची तो पता चला कि होटल में सीओ और एक महिला सिपाही साथ आए थे. वहीं मिली जानकारी के अनुसार उन्नाव पुलिस ने साक्ष्य के तौर पर सीओ से जुड़े वीडियो अपने साथ ले आई थी. बता दें कि उस होटल में एंट्री करते समय सीओ और उनकी महिला सिपाही मित्र सीसीटीवी कैमरे में कैद हुए थे. वहीं इस मामले के बाद प्रशासन ने उन पर पुलिस की छवि धूमिल करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद शासन ने इस पूरे प्रकरण पर अपनी समीक्षा करने के बाद सीओ कृपा शंकर कनौजिया को रिवर्ट कर सिपाही बनाने की सहमती जताई.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT