window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

लखनऊ: रेलयात्रियों के सेफ जर्नी की पहरेदार, देश की पहली ‘गेटवुमन’ सलमा की ऐसी है कहानी

शिल्पी सेन

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Lucknow News: ज़िंदगी में अक्सर चुनौतियां सामने आती हैं. कुछ लोग अपने कदम पीछे खींच लेते हैं तो कुछ अपने हौंसले से चुनौतियों की दीवार को गिरा देते हैं. 29 साल की मिर्ज़ा सलमा बेग ने भी ऐसा ही किया. अपने हौंसले से सलमा पुरुषों के वर्चस्व के क्षेत्र में पिछले 10 साल से नौकरी कर रही हैं. अपने हौंसले और लगन से उन्होंने रिश्तेदारों से लेकर पड़ोसियों तक की सोच को ग़लत साबित किया है. सलमा के पिता गेटमैन की नौकरी करते थे, लेकिन फिटनेस कम होने और कुछ बीमारियों की वजह से उनको नौकरी से हटना पड़ा. सलमा उस वक्त महज़ 19 साल की थीं. सलमा ने पिता से कहा कि वो इस काम के लिए परीक्षा दूंगी और नौकरी करूंगी.

लखनऊ मुख्यालय से क़रीब 12 किलोमीटर दूर के मल्हौर रेलवे क्रॉसिंग पर 12 घंटे में क़रीब 40 बार ट्रेन गुज़रती है. मैनुअल क्रॉसिंग होने की वजह से गेटमैन पर उस फाटक को बंद कर ट्रेन को गुज़रने देने की ज़िम्मेदारी होती है. फिर लोहे के भारी चक्के को घुमा कर गेट को खोलना भी गेटमैन के काम में शामिल है, 29 साल की मिर्ज़ा सलमा बेग इस ज़िम्मेदारी को निभाती हैं. सलमा 2013 में भारत की पहली गेटवूमन(Gatewoman) बनीं थीं.

रिश्तेदारों ने किया था विरोध, पिता ने बढ़ाया हौंसला

हालाँकि सलमा ने टेस्ट पास कर लिया लेकिन रेल विभाग का स्टाफ़ उनको देख कर हैरान था. उसी समय घर में रिश्तेदारों ने विरोध शुरू किया. रूढ़िवादी मुस्लिम परिवार की लड़की का बाहर नौकरी करना ही बड़ी बात थी. ऐसे में गेट मैन का काम कोई लड़की कैसे कर सकती है? पर सलमा के पिता ने उनका साथ दिया. सलमा ने एक महीने की गेटमैन की ट्रेनिंग भी पूरी की. रेल विभाग के लोग हिजाब पहने एक युवा लड़की को गेटमैन के लिए ट्रेनिंग करते देखते तो आपस में बात करते थे कि चार दिन में ही ये नौकरी छोड़ देगी. सलमा बताती हैं कि ‘ मेरे पापा ने न सिर्फ़ मेरा हौंसला ये कहकर बढ़ाया कि तुम गेट खोल सकती हो बल्कि एक महीने तक ड्यूटी पर मेरे साथ आते रहे, जब तक कि मैं इस काम में पूरी तरह अभ्यस्त नहीं हो गयी. ’

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

सलमा को गेटवूमन का काम करते अब 10 साल हो रहे हैं. 2013 में उन्होंने नौकरी जोईन की थी. गेटमैन का काम 12 घंटे तक होता है. भारी फाटक को चक्का घुमा कर खोलना पड़ता है, अलर्ट रहना पड़ता है कि कब ट्रेन आ रही है. सलमा कहती हैं कि ‘गेट खोलते और बंद करते समय इस बात का भी ध्यान रखना पड़ता है कि किसी को चोट न लगे. साथ ही जब तक रेलगाड़ी गुज़र कर दूर न हो जाए गेट बंद रखना होता है. कई बार लोग बहुत जल्दी करते हैं पर हमको लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखना होता है.’

काम की वजह से लोग करते हैं तारीफ और इज्जत

सलमा कहती हैं कि अब लोगों की सोच उनके इस काम को लेकर बदली है. रेलवे का पूरा स्टाफ़ भी सहयोग करता है. लोग भी इज़्ज़त करते हैं. अब लोग न सिर्फ़ उनके काम की तारीफ़ करते हैं बल्कि क्रॉसिंग पर से गुज़रने वाले कई लोग तो उनके साथ सेल्फ़ी भी खिंचवाते हैं. सलमा बताती हैं कि इस काम की वजह से उनकी शादी तय होने के बाद भी शादी होने में दो साल लगे. शादी तय होने पर उनके मंगेतर ने कहा कि ये गेटमैन का काम करना अच्छा नहीं लगता, पर सलमा ने ये साफ़ कह दिया कि वो अपना गेटवूमन का काम नहीं छोड़ेंगी. सलमा कहती हैं कि अब उनके काम को उनके पति भी समझते हैं. क़रीब एक साल के बेटे की मां सलमा अब भी इस काम को करती हैं और इस काम को कभी नहीं छोड़ना चाहतीं.

नोएडा, गाजियाबाद समेत दिल्ली-NCR में महसूस किए गए भूकंप के झटके, कई सेकेंड तक कांपी धरती

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT