दरोगाजी ‘चुलबुल पांडे’ बनने चले थे, लेकिन खेल हो गया !

Divya Sharma

ADVERTISEMENT

कसम से गजब की एनर्जी होती है खाकी वर्दी में. बदन पर चढ़ते ही आदमी खुद को सुपरमैन समझने लगता है. जैसे इन्ही साहब को…

social share
google news

कसम से गजब की एनर्जी होती है खाकी वर्दी में. बदन पर चढ़ते ही आदमी खुद को सुपरमैन समझने लगता है. जैसे इन्ही साहब को देख लीजिए. खाकी वर्दी पहनी नहीं की तुरंत बद्तमीज हो गए. सिंघम की तरह बाहर निकले और लगे फरयादियों को धक्का देने. ये भी नहीं देखा कि सामने महिला है या पुरुष.

आप सोच रहे होंगे कि जिल्ले इलाही को गुस्सा क्यों आया. तो चलिए हम बताते हैं कि साहब को गुस्सा क्यों आया. दरअसल कुछ लोग साहब के पास जमीन विवाद को लेकर मामला दर्ज करवाने पहुंचे थे. जिसमें कुछ महिलाएं भी थीं. लेकिन आरोप है कि साहब फ़रियाद सुनने के बजाई सबको धमकाने लगे, फिर क्या था बड़का एंड्राइड फ़ोन लेकर एक शख्स साहब का वीडियो बनाने लगा. ये देख कर सरकार खिन्न हो गए और लगे धक्कामुक्की करने.

थाने का नाम भले ही प्रेमनगर हो लेकिन. साहब प्रेम भूल कर हाथापाई पर उतर आए. वो तो समय रहने वीडियो बनाने वाले को अक्ल आ गयी और वो भाग खड़ा हुआ नहीं तो साहब थाने में ही छिलका छुड़ाने के लिए तैयार बैठे थे.

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

खैर झांसी के प्रेमनगर थाने का ये वीडियो जैसे ही वायरल हुआ, सोशल मीडिया पर यूपी पुलिस की क्लास लगने लगी. महकमें को जैसे ही इस बारे में पता चला तुरंत सब इंस्पेक्टर संदीप यादव को ससपेंड कर दिया गया और जांच बैठा दी गयी. अब इस मामले में आगे क्या होगा वो तो जांच रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा लेकिन फिलहाल साहब तो नप गए.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT