उत्तराखंड में गुरु को याद कर रो दिए CM योगी आदित्यनाथ, आंखों में आंसू भरकर कही ये बात

उत्तराखंड में गुरु को याद कर रो दिए CM योगी आदित्यनाथ, आंखों में आंसू भरकर कही ये बात
यूपी सीएम योगी आदित्यनाथफोटो कोलाज: यूपी तक

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ 3 मई, मंगलवार को उत्तराखंड के तीन दिन के दौरे पर पहुंचे. अपने उत्तराखंड दौरे के पहले दिन उन्होंने यमकेश्वर स्थित गोरखनाथ महाविद्यालय में अपने गुरु महंत अवेधनाथ की मूर्ति का अनावरण किया. साथ ही महाविद्यालय प्रांगण में एक जनसभा को संबोधित करते हुए गुरु को याद कर सीएम योगी भावुक हो गए.

अहम बिंदु

उन्होंने अपने गुरु को लेकर कहा कि उनकी जन्मभूमि पर आज मैं उन्हें सम्मान दे पा रहा हूं. उन्होंने आगे कहा, "यहां मुझे अपने स्कूली गुरुओं का भी सम्मान प्राप्त करने का अवसर प्राप्त हुआ है. मैंने पहली से 9 वीं क्लास तक यहां से पढ़ाई की है. 9 वीं क्लास के बाद मैं अपने पिताजी के साथ चला गया था. मुझे दुख है कि उस समय के मेरे कई गुरुजन आज हम सबके के बीच नहीं हैं. मुझे यहां 6 गुरुजनों को सम्मान देने का अवसर प्राप्त हुआ है."

इसके अलावा सीएम योगी ने कहा, "पलायन आयोग से पलायन रुक सकता है, जो पूर्व में त्रिवेंद्र रावत ने बनाया था. एजुकेशन के लिए सबसे अनुकूल जगह है उत्तराखंड. हमको संभावनाओं को आगे बढ़ाना होगा. यहां का युवा कहीं भी जाएगा, वो अपनी प्रतिभा का लोहा अवश्य मनवायेगा. हमने भी यहीं पढ़ा, किसी भी अतिरिक्त व्यवस्था के साथ हम लोग नहीं जिये थे."

उन्होंने कहा, "जब अच्छी सरकारें आती हैं तो लोकजीवन में व्यापक आधार भी बनती हैं. आपने 2014 में परिवर्तन देखा होगा, कैसे आज पूरा देश चलता हुआ दिखाई दे रहा है. एक नया तेज है, लोगों के मन मे एक नया उत्साह है. इसका कारण है कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश फिर खड़ा हो चुका है. देश नई अंगड़ाई के साथ आगे बढ़ रहा है."

योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड मिलकर विकास के लिए बहुत अच्छा काम कर सकते हैं. सीएम योगी ने कहा, "उत्तराखंड में सभी लोगों को कोरोना वैक्सीन का डबल डोज लग चुका है. उत्तर प्रदेश में हम 31 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन डबल दे चुके हैं वो भी सब फ्री. संवेदनशील सरकार अगर नहीं होती तो इतना बड़ा काम नहीं हो पाता."

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ
सीएम योगी बोले- 'मंत्री-अफसर अपनी और परिवार के सदस्यों की संपत्ति की दें जानकारी'

संबंधित खबरें

No stories found.