window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

इलाहाबाद विश्विद्यालय में साथी की मौत को लेकर फूटा छात्रों का गुस्सा, गेट बंद कर की नारेबाजी

पंकज श्रीवास्तव

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी में छात्र आशुतोष कुमार दुबे की मंगलवार को हुई आकस्मिक मौत को लेकर स्टूडेंट्स का गुस्सा भड़क उठा है. नाराज छात्रों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए लाइब्रेरी हॉल के बाहर धरना दिया. छात्रों के इस धरने में मृतक छात्र के पिता गणेश शंकर दुबे भी शामिल हुए.

धरना दे रहे छात्रों ने यूनिवर्सिटी प्रशासन पर लापरवाही और संवेदनहीनता का आरोप लगाया है‌. नाराज छात्रों ने कहा है कि मीडिया स्टडीज के छात्र आशुतोष कुमार दुबे की तबीयत बिगड़ने के बाद उसे एंबुलेंस मुहैया न कराना यूनिवर्सिटी की संवेदनहीनता को उजागर करता है.

मंगलवार दोपहर लगभग एक बजे छात्र ने यूनिवर्सिटी कैंपस में लगी पानी की टंकी से पानी पिया था. जिसके बाद वह वहीं पर बेहोश हो गया. छात्रों ने यूनिवर्सिटी कैंपस में उपलब्ध रहने वाली एंबुलेंस की मांग की, लेकिन विश्वविद्यालय के जिम्मेदार अधिकारियों ने एंबुलेंस मुहैया नहीं कराई. जिसके बाद जब छात्र ई-रिक्शा कैंपस के अंदर लाने की कोशिश करने लगे तो नियमों का हवाला देकर ई-रिक्शा को भी अंदर नहीं आने दिया गया. जिसके बाद छात्र बाइक से लेकर उसे अस्पताल पहुंचे. जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

मंगलवार देर शाम ही मृतक छात्र के परिजनों और छात्रों की ओर से कर्नलगंज थाने में विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज करने को लेकर एक तहरीर भी दी गई है.

प्रदर्शन कर रहे छात्रों और मृतक छात्र के पिता गणेश शंकर दुबे ने विद्यालय प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई की मांग की है. यूनिवर्सिटी कैंपस में छात्र की हुई मौत के विरोध में छात्रों ने लाइब्रेरी गेट समेत तमाम गेटों में तालाबंदी कर दी और सुबह से ही नारेबाजी और धरना दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

प्रदर्शनकारी छात्रों ने विश्वविद्यालय के जिम्मेदार अधिकारियों से इस मामले में बातचीत करने को भी कहा है. छात्रों के प्रदर्शन को देखते हुए विश्वविद्यालय को छावनी में तब्दील कर दिया गया है. छात्रों ने पानी की टंकी में गंदगी होने की भी आशंका जताई है और इसकी जिम्मेदारी लेते हुए कुलपति और अन्य जिम्मेदार अधिकारियों से इस्तीफे की मांग की है. वहीं कुछ नाराज छात्रों ने कॉलेज टीचरों से भी अभद्रता की है.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT