window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

PM मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में ‘रेवड़ी कल्चर’ के खिलाफ रेवड़ी बांटकर हुआ प्रदर्शन

रोशन जायसवाल

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

राजनीतिक दलों द्वारा जनता से किए जाने वाले मुफ्त चुनावी वादे (रेवड़ी कल्चर) को लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है.

इस बीच पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में सोमवार को ‘रेवड़ी कल्चर’ के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन देखने को मिला.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

वाराणसी में ‘रेवड़ी कल्चर’ के खिलाफ व्यंग्यात्मक रूप से लोगों ने सड़क पर उतरकर रेवड़ी बांटते हुए मुफ्तखोरी की राजनीति पर अंकुश लगाने की मांग की.

सुबह-ए-बनारस क्लब के बैनर तले मैदागीन चौराहे पर मुफ्त चुनावी वादे पर अंकुश लगाने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया गया.

ADVERTISEMENT

विभिन्न सरकारों पर उंगली उठाने वाले अनोखे प्रदर्शन की शुरुआत मैदागिन इलाके में स्थित भारतीय पार्क से जुलूस में हुई.

जुलूस के दौरान संस्था के सदस्यों ने हाथों में बैनर तख्ती के साथ प्लेट में सजी रेवड़ी भी ले रखी थी और उसे पूरे रास्ते आपस में और लोगों में बांटते भी चल रहे थे.

ADVERTISEMENT

इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने रेवड़ी कल्चर राजनीति के खिलाफ जमकर नारेबाजी भी की.

बता दें कि बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने जनता के पैसे खर्च करने के सही तरीकों को लेकर चिंता जताते हुए कहा कि मुफ्त की रेवड़ियां बांटने के चुनावी वादों का मुद्दा जटिल होता जा रहा है.

काशी में बाढ़ का कहर!

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT