window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

अफजाल अंसारी से भिड़ने वालीं गाजीपुर DM आर्यका अखौरी ने एक बार दिया था गजब आदेश

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

IAS Aryaka Akhouri News: माफिया मुख्‍तार अंसारी के जनाजे के दौरान उनके भाई अफजाल अंसारी और गाजीपुर की जिलाधिकारी आर्यका अखौरी के बीच जमकर बहस हुई, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ था. इस वीडियो को वायरल होने के बाद लोगों ने इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रियां भी दीं. ऐसे में लोगों के बीच IAS अधिकारी आर्यका अखौरी के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने की उत्सुकता है. लोग इस बात को जानना चाहते हैं कि वह महिला डीएम कौन हैं, जो मुख्तार के भाई अफजाल से भिड़ गई थीं. ऐसे में आइए आपको बताते हैं कि कौन हैं आर्यका अखौरी?

कौन हैं आर्यका अखौरी?

उत्तर प्रदेश सरकार की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार, 14 दिसंबर, 1985 को जन्मी आर्यका अखौरी मूल रूप से बिहार के पटना जिले की रहने वालीं हैं. वह 2013 बैच की आईएएस अधिकारी हैं. बता दें कि आर्यका अखौरी ने एमएससी (बायोटेक) की पढ़ाई की है.  वर्ष 2022 के सितंबर महीने में कई आईएएस अधिकारियों के तबादले हुए थे, जिसमें आर्यका का भी जिला बदला था, इससे पहले वह भदोही जिले की डीएम थीं.

आर्यका अखौरी ने एक बार दिया था अजीबोगरीब आदेश

 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

गौरतलब है कि भदोही की जिलाधिकारी रहते हुए आर्यका अखौरी का एक आदेश काफी ज्यादा चर्चा का विषय रहा था. दरअसल, भदोही डीएम रहते हुए उन्होंने जिलाधिकारी ऑफिस में अपने कर्मचारियों और अधिकारियों के जींस-टॉप पहनकर आने पर रोक लगा दी थी. बता दें कि डीएम आर्यका अखौरी के इस आदेश की तब खूब चर्चा हुई थी.    

 

 

अफजाल और डीएम आर्यका के बीच क्यों हुई थी बहस

ये बहस मुख्तार अंसारी की कब्र पर मिट्टी डालने को लेकर हुई है. दरअसल धारा-144 लागू है. ऐसे में गाजीपुर डीएम का कहना था कि कब्र पर मिट्टी हर कोई नहीं डाल सकता. इस बात पर अफजाल अंसारी ने कहा कि कब्र पर मिट्टी डालने से कोई नहीं रोक सकता. डीएम आर्यका अखौरी ने अफजाल अंसारी से कहा कि धारा-144 लागू है. ऐसे में ज्यादा भीड़ जमा नहीं कर सकते. इस बात पर अफजाल अंसारी ने कहा लोगों को कब्र पर मिट्टी डालने से नहीं रोका जा सकता. अफजाल अंसारी ने साफ कहा कि ये रीति रिवाज है. ये करने से लोगों को नहीं रोका जा सकता.   

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT