window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

नोएडा, गाजियाबाद समेत दिल्ली-NCR में महसूस किए गए भूकंप के झटके, कई सेकेंड तक कांपी धरती

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

नोएडा, गाजियाबाद समेत दिल्ली एनसीआर में एक बार फिर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं. बताया जा रहा है कि करीब 54 सेकेंड तक भूकंप के झटकों का एहसास होता रहा. हालांकि भूकंप की वजह से जान-माल के किसी नुकसान की कोई खबर नहीं है. भूकंप के झटके महसूस होते ही लोग अपने घरों से निकल पड़े. सोशल मीडिया पर झाड़-फानून और पंखों के हिलने के वीडियो शेयर किए जाने लगे हैं.

न्यूज एजेंसी एएनआई ने राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के हवाले से बताया है कि रिक्टर स्केल पर 5.4 तीव्रता का भूकंप नेपाल में करीब शाम 7:57 बजे आया. इसका केंद्र जमीन से 10 किमी अंदर था.

आपको बता दें कि इससे पहले 9 नवंबर को भी देर रात भूकंप के झटके लगे थे. तब यह झटके यूपी, दिल्ली और उत्तराखंड समेत देश के अलग-अलग इलाकों में लगे थे. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के मुताबिक 6.3 की तीव्रता का भूकंप का केंद्र नेपाल में था.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

इसका असर भारत के विभिन्न इलाकों में देखने को मिला. नोएडा समेत दिल्ली एनसीआर, लखनऊ, मुरादाबाद और आजमगढ़ जैसे इलाकों में लोग भूकंप के झटकों से जग गए. पूरे यूपी में भूकंप के झटके महसूस किए गए. इससे पहले अगस्त में भी यूपी में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे.

BHU के जीयो फिजिसिस्ट एक्स्पर्ट के मुताबिक जानिए भूकंप आने पर सबसे पहले क्या करें?

ADVERTISEMENT

– भूकंप आने के बाद लोगों के पास समय बहुत कम होता है बचने के लिए

– भूकंप आने पर पिलर अपनी जगह बने रहते हैं, मगर सीलिंग गिरने की संभावना ज्यादा बनी रहती है.

ADVERTISEMENT

– सीलिंग के मलबे से बचने के लिए अगर अपने सिर को ढकते हुए किसी टेबल या चौकी के नीचे प्रवेश कर लें, तो ये सबसे पहले बचने का अच्छा उपाए है.

– अगर आपके पास समय है, तो आप तुरंत खुले मैदान की ओर भाग सकते हैं.

नोएडा, मुरादाबाद, लखनऊ, आजमगढ़ समेत पूरे प्रदेश में भूकंप के झटके, नेपाल के भूकंप का असर

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT