window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

चाय बनाते वक्त कट गई बिजली, चायपत्ती की जगह डाल दी चूहे मारने की दवा, फिर हो गई ये अनहोनी

उदय गुप्ता

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

चंदौली में उस वक्त एक अजीबोगरीब मामला सामने आया जब एक लड़की ने चाय बनाते वक्त चायपत्ती के बदले चूहा मारने की दवाई का इस्तेमाल कर लिया. चाय पीने के बाद घर के तीन सदस्यों की हालत बिगड़ गई. उन्हें गंभीर हालत में आनन-फानन में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने तत्काल इलाज करते हुए उनकी जान बचाई.

चंदौली जिला मुख्यालय पर स्थित कांशीराम आवास योजना में राजधानी कुमार नाम के एक व्यक्ति का परिवार रहता है. मंगलवार की शाम सात बजे के आसपास राजधानी कुमार की बेटी घर के सदस्यों के लिए चाय बना रही थी.

बताया जा रहा है कि चूल्हे पर दूध और पानी खौल रहा था, इसी वक्त अचानक बिजली चली गई. इसके बाद जो कुछ भी हुआ वह काफी हैरान कर देने वाला था.

किचन में चाय पत्ती के पाउच के आसपास चूहे मारने वाली दवा का भी पाउच रखा था. चाय बना रही लड़की ने चायपत्ती के बदले चूहा मारने वाली दवा का पाउच उठाया और उसी की चाय बना दी. इसके बाद इस चाय को राजधानी कुमार और उनके दो बेटों ने पी लिया.

चाय पीने के कुछ ही देर बाद इन तीनों की हालत बिगड़ने लगी. इन तीनों की एक साथ हालत बिगड़ती देख अगल-बगल के लोग इकट्ठा हो गए. बातचीत के दौरान जब इनकी हालत को लेकर के पड़ोसियों ने पूछताछ की तो पता चला कि चायपत्ती के बदले चूहे मारने की दवा की चाय बन गई थी. जिसे पीने के बाद इन तीनों की हालत बिगड़ गई.आनन-फानन में इन तीनों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां चिकित्सकों ने तत्काल उपचार किया और इन तीनों की जान बाल बाल बच गई.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

जिला अस्पताल के इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर डॉ. संजय कुमार ने बताया कि रात में 9:00 बजे के आसपास हमारे यहां 3 लोग आए थे. जिनमें पिता और 2 पुत्र थे. उन लोगों ने चाय समझकर चूहे मारने वाली दवा चाय में डाल दी थी. जिसको पीने के बाद उनकी हालत गंभीर हो गई. हमारे यहां आए तो हालत ठीक नहीं थी लेकिन उनका इलाज कर रहा हूं पहले से बेहतर हैं.

चंदौली में विकसित होगा ईको टूरिज्म, पर्यटकों को लुभाएंगे शानदार वॉटरफॉल, भेजा गया प्रस्ताव

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT