UP पुलिस भर्ती परीक्षा के बाद RO/ARO एग्जाम भी हुआ निरस्त, जानिए फिर कब देना होगा Exam

यूपी तक

ADVERTISEMENT

RO-ARO exam cancel
RO-ARO exam cancel
social share
google news

UP News: उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा के बाद अब यूपी से एक और बड़ी खबर सामने आ रही है. बता दें कि अब उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने RO-ARO एग्जाम यानी समीक्षा अधिकारी/सहायक समीक्षा अधिकारी की परीक्षा को भी रद्द कर दिया है. बता दें कि ये परीक्षा उत्तर प्रदेश में 11 फरवरी के दिन आयोजित की गई थी.

बता दें कि परीक्षा के बाद से ही दावा किया जा रहा था कि RO-ARO एग्जाम का पेपर लीक हो गया था. सोशल मीडिया पर छात्रों ने पेपर लीक के दावें किए थे. छात्रों द्वारा लगातार पेपर कैंसिल की मांग की जा रही थी. इसको लेकर उत्तर प्रदेश में कई जगह छात्र आंदोलन भी कर रहे थे. अब यूपी सरकार ने ये पेपर भी रद्द कर दिया है. बता दें कि पुलिस भर्ती पेपर के बाद अब ये पेपर ही योगी सरकार ने कैंसिल कर दिया है.

सीएम योगी ने दिया परीक्षा रद्द करने का निर्देश


बता दें कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित समीक्षा अधिकारी/सहायक समीक्षा अधिकारी की समीक्षा की गई थी. दरअसल इस पेपर को लेकर दावा किया जा रहा था कि ये पेपर भी लीक हो गया था. सोशल मीडिया पर कई फोटो और वीडियो इसको लेकर वायरल हो रहे थे.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

इसके बाद सरकार ने छात्रों से इसको लेकर सबूत मांगे थे. मिली जानकारी के मुताबिक, पेपर लीक के दावों को लेकर छात्रों ने सरकार को कई साक्ष्य दिए थे. आयोग द्वारा भी इसकी एक रिपोर्ट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को दी गई थी. अब सीएम योगी ने ही RO-ARO की परीक्षा को रद्द करने का निर्देश जारी कर दिया है.

अब कब होगी परीक्षा

बता दें कि सरकार ने फैसला लिया है कि RO-ARO की परीक्षा अब 6 महिनों के अंदर फिर आयोजित करवाई जाएगी. इसी के साथ सरकार ने ये भी निर्देश दिए हैं कि पेपर लीक में शामिल सभी लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए. बता दें कि अब मामले की जांच यूपी सरकार ने एसटीएफ को सौंप दी है. अब यूपी एसटीएफ RO-ARO पेपर लीक की जांच करेगी.

ADVERTISEMENT

यूपी पुलिस भर्ती परीक्षा भी हो चुकी है रद्द

इससे पहले उत्तर प्रदेश सिपाही भर्ती परीक्षा को भी रद्द कर दिया गया था. सिपाही भर्ती एग्जाम के बाद पेपर लीक का दावा किया गया था. बता दें कि छात्रों ने दावा किया था कि परीक्षा से पहले और परीक्षा के बाद ही उनके मोबाइल में पूरा पेपर था. पेपर के साथ ऑसर भी थे. इसको लेकर भी पुलिस भर्ती बोर्ड ने छात्रों से साक्ष्य मांगे थे, जिसके बाद सरकार ने सिपाही भर्ती परीक्षा का पेपर भी रद्द कर दिया था. इस मामले की जांच भी एसटीएफ के पास है.

 

ADVERTISEMENT

    Main news
    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT