बारिश के बाद बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे में बने गड्‌ढे की तस्वीर ट्वीट कर अखिलेश ने कही ये बात

बारिश के बाद बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे में बने गड्‌ढे की तस्वीर ट्वीट कर अखिलेश ने कही ये बात
स्क्रीन ग्रैब: अखिलेश यादव के ट्वीटर से

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे की डिजाइन को लेकर पहले से हमला बोल रहे सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बारिश से भीगे एक्सप्रेसवे का वीडियो शेयर कर उसकी गुणवत्ता पर सवाल उठाया है. दरअसल अखिलेश यादव ने जो वीडियो शेयर किया है उसमें एक्सप्रेसवे एक जगह धंस गया है. इसपर सपा अध्यक्ष ने ट्वीट कर कहा- 'अच्छा हुआ इस पर रनवे नहीं बना.'

स्क्रीन ग्रैब: अखिलेश यादव के ट्वीटर से
अहम बिंदु

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे में एक स्थान पर एक तरफ के हिस्से में सड़क के धंसने पर अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा- 'ये है भाजपा के आधे-अधूरे विकास की गुणवत्ता का नमूना… उधर बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का बड़े लोगों ने उद्घाटन किया ही था कि इधर एक हफ़्ते में ही इस पर भ्रष्टाचार के बड़े-बड़े गड्ढे निकल आए. अच्छा हुआ इस पर रनवे नहीं बना.'

गौरतलब है कि इससे पहले भी अखिलेश यादव ने बुंदेलखंड की डिजाइन पर सवाल उठाए थे. उन्होंने ट्वीट कर कहा था- "आधे-अधूरे बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के उद्घाटन की हड़बड़ी बताती है कि इसका डिजाइन भी ऐसे ही चलताऊ बना है. तभी डिफेंस कॉरिडोर के पास होने के बाद भी यहां भाजपा सरकार, सपा काल में बने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जैसी हवाई पट्टी न बना पाई. इसे चित्रकूट तक विकसित न करना दूरदृष्टि की कमी है."

आपको बता दें कि बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का उद्घाटन 16 जुलाई को पीएम मोदी ने किया था. बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे को चौड़ा करके छह लेन का भी बनाया जा सकता है. चित्रकूट के भरतकूप से इटावा के कुदरैल तक यह एक्सप्रेस-वे है. बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे इटावा में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे से मिला है.

बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे 7 जिलों से होकर गुजरता है- चित्रकूट, बांदा, महोबा, हमीरपुर, जालौन, औरैया और इटावा. इसका निर्माण उत्तर प्रदेश एक्सप्रेस-वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीईआईडीए) ने किया है. इसका निर्माण उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीईआईडीए) ने किया है.

बारिश के बाद बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे में बने गड्‌ढे की तस्वीर ट्वीट कर अखिलेश ने कही ये बात
बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे पर 12 जुलाई से दौड़ेंगी गाड़ियां, देखिए इसके अट्रैक्टिव ड्रोन इमेज

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in