window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

आजमगढ़ के लाल योगेश्वरनाथ ने NASA के लिए बनाया ‘चमत्कारी कैमरा’, जानिए इस सक्सेस स्टोरी को

राजीव कुमार

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Azamgarh News: मूल रूप से आजमगढ़ जिले के रहने वाले युवा वैज्ञानिक योगेश्वर नाथ मिश्रा ने दुनियाभर में जिले का नाम रोशन किया है. आपको बता दें एक किसान के बेटे योगेश्वर नाथ मिश्रा कैलटेक नासा (Caltech-NASA) की टीम का हिस्सा हैं. और इस टीम ने फास्टेस्ट लेजर शीट इमेजिंग टेक्नोलॉजी की मदद से 2D लेजर कैमरे का आविष्कार किया है. मिली जानकारी के अनुसार, इस टेक्नोलॉजी की मदद से आग की लपटों में मौजूद नैनोपार्टिकल्स की स्टडी में मदद मिलने की उम्मीद है.

बेटे की पढ़ाई के लिए बेची 4 बीघा जमीन: योगेश्वर नाथ के पिता

अपने पैतृक जिले के पैकौली गांव से शुरू हुआ योगेश्वर नाथ का सफर आज अमेरिका के कैलिफोर्निया तक पहुंच गया है. योगेश्वर नाथ की इस उपलब्धि पर उनके परिजनों ने कहा कि वह शुरू से ही मेधावी छात्र थे. उनके पिता राजेंद्र नाथ मिश्र ने कहा, “मैं अपने बेटे को शुरू से आईएएस के रुप में देखना चाहता था, लेकिन मेरे बेटे का यह कहना था कि आईएएस के रूप में सिर्फ देश के लोग आपको जानेंगे लेकिन मैं कुछ ऐसा करना चाहता हूं जिसकी वजह से लोग आपको पूरी दुनिया में जानेंगे. मैंने बेटे का पूरा साथ दिया. यहां तक कि छोटी किसानी और छोटे-मोटे कारोबार से पूर्ति ना होने पर हमने अपनी 4 बीघा जमीन को भी बेच दिया था, जिससे बेटे की पढ़ाई लिखाई में कोई कमी ना हो सके. मेरे बेटे द्वारा किए गए आविष्कार की पूरी दुनिया में सराहना की जा रही है. मेरे लिए इससे खुशी का पल और कोई नहीं.”

फिलहाल जर्मनी में रह रहे हैं योगेश्वर नाथ

इस मौके पर साइंटिस्ट योगेश्वर नाथ के छोटे भाई कमलेंद्र नाथ ने कहा, “इस वक्त बड़े भाई जर्मनी में हैं और नासा से जुड़े हुए एक प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहे हैं. उनके द्वारा किए गए आविष्कार से 12.5 बिलियन फ्रेम प्रति सेकंड हासिल करने का अविष्कार किया है जबकि रेगुलर कैमरे से 30 फ्रेम प्रति सेकंड होते थे.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT