window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

रिहाई के आदेश के बावजूद अब तक जेल से बाहर क्यों नहीं आ पा रहीं आजम खान की पत्नी तंजीन?

आमिर खान

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Azam Khan News: समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता मोहम्मद आजम खान की पत्नी और पूर्व सांसद तंजीन फातिमा की मंगलवार को जेल से रिहाई टल गई. अदालत से जारी हुए आदेश में त्रुटियां होने के चलते उन्हें एक और रात सलाखों के पीछे ही गुजारनी पड़ी. मालूम हो कि पूर्व विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम खान के दो अलग-अलग जन्म प्रमाण पत्र के मामले में रामपुर की एमपी-एमएलए (MP-MLA) कोर्ट द्वारा तंजीन फातिमा को 18 अक्टूबर 2023 को 7 साल की सजा सुनाई गई थी. तंजीन फातिमा पिछले 6 महीने 10 दिन से जेल में बंद हैं.

आपको बता दें कि इस मामले में आजम खान और उनके परिवार को उस समय बड़ी राहत मिली जब इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 24 मई, 2024 को तंजीन फातिमा, आजम खान और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम खान की जमानत मंजूर कर ली थी. मगर आजम खान और अब्दुल्ला खान अन्य मामलों में सजायाफ्ता होने के चलते जेल से बाहर नहीं आ सकते हैं. ऐसे में केवल तंजीन फातिमा के रिहाई का रास्ता साफ हो पाया था और माना जा रहा था कि मंगलवार को वह खुली हवा में सांस ले सकेंगी. मगर कोर्ट के आदेश में कुछ तकनीकी त्रुटियां होने के चलते अभी तक उनकी रिहाई संभव नहीं हो सकी है.

 

 

जेल प्रशासन ने क्या कहा 

जेल सुपरिंटेंडेंट प्रशांत मौर्य ने बताया कि अदालत से आए रिहाई के आदेश में कुछ त्रुटियां हैं, जिनके चलते रिहाई नहीं हो सकी, संभावना है कि यह त्रुटियां जल्द ही ठीक कर ली जाएंगी और फिर तंजीन फातिमा कि रिहाई हो सकेगी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT