कांग्रेस और SP के लोगों ने मुझसे कलीम सिद्दीकी पर बोलने को कहा: असदुद्दीन ओवैसी

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को प्रयागराज में पूर्व सांसद अतीक अहमद की पत्नी के साथ मंच साझा करते हुए एक जनसभा को संबोधित किया. इस दौरान ओवैसी ने अपने भाषण में दो बड़े संदेश देने की कोशिश की:

  • पहला, मुस्लिमों का वोट लेकर एसपी, बीएसपी और कांग्रेस ने सत्ता हासिल की लेकिन उनकी बेहतरी के लिए कुछ नहीं किया, मुसलमानों को वोट बैंक की तरह इस्तेमाल कर इन पार्टियों ने नुकसान पहुंचाया है, ऐसे में इनसे दूर रहना ही बेहतर है.’

  • दूसरा, मुस्लिम एकजुट होकर एआईएमआईएम का साथ दें तभी उन्हें उनका हक मिल पाएगा.

  • यह भी पढ़ें...

    ADVERTISEMENT

    प्रयागराज में दिए अपने भाषण में ओवैसी के निशाने पर बीजेपी से ज्यादा एसपी, बीएसपी और कांग्रेस रहीं. जनसभा में अतीक अहमद की पत्नी शाइस्ता परवीन भी मौजूद थीं. शाइस्ता ने ‘साबरमती जेल से आए अतीक अहमद के खत’ को भी पढ़ा.

    उनके मुताबिक, इस खत में अतीक अहमद ने लिखा, ”मैं और मेरा भाई जेल में है.. मेरे बेटे पर इनाम रखा गया है. मुझे मजबूरन यह खत अपनी पत्नी को पढ़ने को कहना पड़ा. मेरे वालिद जिंदा होते तो शायद इसकी इजाजत कभी ना देते… मुझे अखिलेश यादव ने न सिर्फ जेल भेजा बल्कि सरकारी वकील के जरिए मेरी पैरवी को भी कमजोर किया, मेरी जमानत नहीं होने दी. एसपी को इलाहाबाद, कौशांबी में कितने लोग जानते थे. मुझे आप लोग विधायक मानते थे. मैंने मुलायम सिंह यादव जी का सपोर्ट किया. जब भी मुलायम सिंह यादव ने रैली की, मैंने बस में भरकर लोगों को उनके समर्थन में लखनऊ भेजा. अपने भाई को भाई कहने में आज अखिलेश यादव को, समाजवादी पार्टी को शर्म आती है, अपने भाई का झंडा उठाने में शर्म आती है.”

    इस खत में आगे लिखा गया कि अब लड़ाई विधायक या सांसद बनने की नहीं, अब लड़ाई अपने हक की है, ”अब हम टिकट मांगने वाले नहीं टिकट देने वाले बनेंगे, अगर किसी विधानसभा में 10000 वोट भी मुसलमानों का है तो सिर्फ एआईएमआईएम को ही वो वोट पड़े और दूसरी पार्टी को हरवा दो.”

    ADVERTISEMENT

    इस खत को पढ़े जाने के बाद असदुद्दीन ओवैसी ने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा, ”मैं अतीक अहमद और उनके परिवार को सलाम करता हूं जो एक जालिम हुकूमत के साथ लड़ रहा है.”

    ओवैसी ने अवैध धर्मांतरण केस में गिरफ्तार मौलाना कलीम सिद्दीकी के मुद्दे पर भी बीजेपी से ज्यादा एसपी, बीएसपी और कांग्रेस को आड़े हाथों लिया.

    ADVERTISEMENT

    ओवैसी ने कहा, ”मौलाना कलीम के पकड़े जाने पर मैं अब तक इंतजार कर रहा था कि शायद कोई पार्टी तो कुछ बोले लेकिन किसी ने कुछ नहीं बोला. मेरे पास एक कांग्रेसी नेता का फोन आया कि ओवैसी साहब मौलाना कलीम के मुद्दे पर कब बोलेंगे. मैंने सवाल किया आप के नेता राहुल गांधी क्यों नहीं बोलते, तो उधर से जवाब आया कौम की रहनुमाई और हिफाजत के लिए आप जो कर रहे हैं वह कोई और नहीं कर सकता. एक एसपी नेता तक ने मुझसे मौलाना कलीम के मुद्दे पर कुछ कहने के लिए गुजारिश की, मैंने जब उस एसपी नेता से पूछा कि आपके अखिलेश यादव क्यों नहीं बोलते तो उस नेता ने साफ कहा कि अगर अखिलेश जी मौलाना कलीम पर बोल देंगे तो दूसरे लोग वोट नहीं देंगे.”

    ओवैसी ने कहा कि समाजवादी पार्टी में हमारी ही कौम के मीर जफर और मीर सादिक बैठे हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा, ”आजम खान, अतीक अहमद, मुख्तार अंसारी जेल में हैं. उत्तर प्रदेश की जेलों में 27 फीसदी मुस्लिम बंद हैं. इसके खिलाफ कोई बोलने को तैयार नहीं है. अब 2022 में कौम को अपनी ताकत बढ़ानी होगी और दिखानी होगी.”

    बीजेपी पर हमला बोलते हुए ओवैसी ने कहा, ”नरेंद्र मोदी ने देश और यूपी के मुसलमानों के साथ धोखा किया है. सुप्रीम कोर्ट में जाकर कहा जातिगत जनगणना नहीं की जा सकती. जिस देश में जानवरों की गिनती होती है, पक्षियों की गिनती होती है, पेड़-पौधों की गिनती होती है लेकिन अगर गिनती नहीं होती तो वह सिर्फ ओबीसी की नहीं होती.”

    यूपी में महाराष्ट्र के औरंगाबाद का जिक्र! ओवैसी के नए सियासी वार के मायने और असर को समझिए

      follow whatsapp

      ADVERTISEMENT