window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

वाराणसी में BHU के पास क्या चल रही है जमीन की कीमत? लैंड डील के वक्त इन बातों का दें ध्यान

यूपी तक

ADVERTISEMENT

Land Rates Near BHU
Land Rates Near BHU
social share
google news

न्यूज़ हाइलाइट्स

point

वाराणसी शहर में जमीन खरीदने का सपना हर किसी भारतीय नागरिक का होता है.

point

कई लोग होंगे जो भविष्य में जमीन की बढ़ती कीमतों को देख बनारस में BHU के आसपास जमीन खरीदने का प्लान बना रहे होंगे

point

इस खबर में जानिए वाराणसी में BHU के पास जमीन का क्या रेट चल रहा है.

Land Rates Near BHU in Varanasi: इतिहास और आध्यात्मिकता से भरपूर वाराणसी शहर में जमीन खरीदने का सपना हर किसी भारतीय नागरिक का होता है. इस पवित्र शहर के बढ़ते बुनियादी ढांचे और विकास के साथ, यहां का रियल एस्टेट बाजार भी आशाजनक अवसर प्रदान कर रहा है. ऐसे में कई लोग होंगे जो भविष्य में जमीन की बढ़ती कीमतों को देख बनारस में BHU के आसपास जमीन खरीदने का प्लान बना रहे होंगे. ऐसे लोगों की जिज्ञासा इस बात को जानने में भी है कि BHU के पास जमीन का क्या रेट चल रहा है? आपके इसी सवाल का जवाब यूपी Tak ने तलाश लिया है. खबर में आगे जानिए BHU के पास जमीन का क्या रेट है.

BHU के पास ये है जमीन का रेट

  • हैदराबाद गेट के पास: 1360 वर्ग फुट के रेसिडेंशियल प्लॉट्स लगभग ₹53.5 लाख में उपलब्ध हैं. 
  • रामनगर और रोहनिया: यहां छोटे प्लॉट के लिए कीमतें ₹19 लाख तक हैं. वहीं, अधिक प्रीमियम प्लॉट के लिए आपको ₹4.60 करोड़ तक खर्च करने होंगे.
  • चितईपुर: यहां आवासीय प्लॉट ₹44 लाख से ₹1.33 करोड़ तक की रेंज में उपलब्ध हैं.


जमीन खरीदने से पहले इन बातों का जरूर दें ध्यान

 

  1. जमीन खरीदने से पहले जमीन का निरीक्षण करें और यह सुनिश्चित करें कि जमीन अच्छी स्थिति में है.
  2. जमीन खरीदने से पहले जमीन के दस्तावेजों की अच्छी तरह से जांच करें.
  3. जमीन खरीदने से पहले एक वकील से सलाह लें.
  4. जब भी आप कोई जमीन खरीदने जाएं तो इस बात की तस्दीक कर लें कि भूमि सरकारी न हो.
  5. आप जब कोई जमीन खरीदने जाएं तो सीएच 41 और 45 में यह देख लीजिए कि वह भूमि चकरोड, मरघट, खलिहान, चारागाह में न आ रहीं हो.
  6. वहीं, जमीन खरीदने से पहले मौके पर जाकर देख लें कि जिससे आप जमीन खरीद रहे हैं, उसपर उसका कब्जा है भी यह नहीं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT