window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

लखनऊ: राजनाथ सिंह ने पूछा- राशन मिल रहा है? जवाब में लोगों ने बता दी ये बड़ी समस्या, जानें

सत्यम मिश्रा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Lucknow News: लखनऊ से सांसद और देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) दो दिवसीय लखनऊ दौरे पर हैं. अपने दौरे के आखरी दिन राजनाथ सिंह लखनऊ के ऐशबाग स्थित रामलीला मैदान के पास तिलक नगर कॉलोनी पहुंचे. इस दौरान राजनाथ सिंह ने दलित समाज के लोगों से मुलाकात की और उनकी समस्याओं को सुना.  इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लोगों से पूछा कि क्यों 5 किलो राशन मिल रहा है न?

इस दौरान दलित समाज के लोगों की तरफ से जर्जर घरों का मुद्दा उठाया गया. राजनाथ सिंह ने दलित समाज से कहा कि जाटव समाज की बस्ती में जो स्थानीय लोग रह रहे हैं, जिनके मकान जर्जर हो गए हैं, उन पर ध्वस्तीकरण की कार्यवाही कराकर उन्हें फिर से बनवाया जाएगा. इसके बाद स्थानीय लोग फिर से वहां रह सकेंगे. उन्होंने कहा कि एलडीए के अधिकारियों को बता दिया गया है. जल्दी ही इस समस्या का निराकरण किया जाएगा. इस दौरान उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चाय की चुस्की ली.

लोगों ने ये कहा

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

कार्यक्रम के बाद यूपीतक की टीम ने स्थानीय लोगों से बातचीत की. इस दौरान स्थानीय लोग रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा दिए गए आश्वासन से सहमत नहीं दिखाई दिए. उनका कहना है कि जर्जर मकानों के ठीक कराने के नाम पर पहले उनका ध्वस्तीकरण किया जाएगा और फिर कभी उन्हें वहां रहने नहीं दिया जाएगा. ऐसे में उनका क्या होगा? उन्हें तो दर-दर की ठोकरे खाने के लिए छोड़ दिया जाएगा.

स्थानीय लोगों का कहना है कि जो नए घर बनाएं जाएगे उनको किसी अन्य को दे दिया जाएगा. स्थानीय निवासी पिंकी गौतम ने कहा कि अगर मकान को खाली कर दिया गया तो फिर हम कहां जाएंगे? ऐसे में हम लोगों को लिखित तौर पर आश्वासन दिया जाए कि जब हम लोग मकान को खाली करेंगे और फिर जब मकान बन जाएगा तो हमें फिर से इसमें रहने दिया जाएगा.

ADVERTISEMENT

लखनऊ: कृषक एक्सप्रेस में ‘गंदे कंबलों’ से यात्रियों की बिगड़ी तबीयत, हुई उल्टियां, जानिए

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT