window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

Noida के सेक्टर-100 की इस सोसाइटी में AC में हुआ ब्लास्ट, जानें वहां कैसा है माहौल

भूपेंद्र चौधरी

ADVERTISEMENT

Noida AC Blast
Noida AC Blast
social share
google news

Noida AC Blast: गौतमबुद्ध नगर जिले के नोएडा से एक बड़ी खबर सामने आई है. आपको बता दें कि नोएडा के सेक्टर-100 में स्थित लोटस बुलेवार्ड सोसाइटी (Lotus Boulevard) में AC फटने से भीषण आग लग गई है, जिससे कई फ्लैट आग की चपेट में आ गए हैं. इस घटना के चलते सोसाइटी में अफरा-तफरी मच गई है. 

मिली जानकारी के अनुसार, आसपास के फ्लैट्स में रहने वाले लोग अपना फ्लैट छोड़कर ग्राउंड फ्लोर पर आ गए हैं. ऐसी खबर है कि कई और फ्लैट भी आग की चपेट में आ सकते हैं. लोगों ने आग लगने की सूचना तुरंत दमकल विभाग को दी है. फिलहाल आग पर काबू पाने का प्रयास किया जा रहा है. 

 

 

वो क्या कारण हैं जिनकी वजह से AC में हो सकता है ब्लास्ट?

  1. एयर कंडीशनर (एसी) में ब्लास्ट होना बहुत दुर्लभ घटना है. मगर अगर होता है, तो इसके पीछे कुछ संभावित कारण हो सकते हैं:
  2. इलेक्ट्रिकल फॉल्ट्स (विद्युत दोष): एसी में विद्युत समस्या, जैसे कि शॉर्ट सर्किट, ओवरलोडिंग, या गलत वायरिंग, ब्लास्ट का कारण बन सकती है.
  3. कूलेंट लीकेज (रिफ्रिजरेंट रिसाव): एसी में इस्तेमाल होने वाला कूलेंट (जैसे कि R-22 या R-410A) अगर रिसने लगता है और इलेक्ट्रिकल पार्ट्स के संपर्क में आ जाता है, तो विस्फोट हो सकता है.
  4. कंप्रेसर फेलियर (कंप्रेसर की विफलता): एसी का कंप्रेसर अगर ठीक से काम नहीं कर रहा हो या उसमें अत्यधिक दबाव बन जाए, तो यह ब्लास्ट का कारण बन सकता है.
  5. मेंटेनेंस की कमी (रखरखाव की कमी): नियमित रूप से एसी की मेंटेनेंस नहीं करने से धूल, मलबा, और अन्य अवरोध पैदा हो सकते हैं, जिससे मशीन के अंदर अत्यधिक तापमान बढ़ सकता है और ब्लास्ट हो सकता है.
  6. गैस रिसाव: एसी में इस्तेमाल होने वाली गैस अगर सही तरीके से नहीं भरी गई हो या सिस्टम में लीकेज हो, तो यह आग पकड़ सकती है और विस्फोट का कारण बन सकती है.

ब्लास्ट से बचने के उपाय

  • रेगुलर मेंटेनेंस: एसी की नियमित रूप से सर्विसिंग और मेंटेनेंस करवाना महत्वपूर्ण है.
  • प्रोफेशनल इंस्टॉलेशन: एसी को हमेशा प्रशिक्षित और प्रमाणित तकनीशियन से ही इंस्टॉल करवाना चाहिए.
  • लीकेज चेक: समय-समय पर गैस लीकेज और इलेक्ट्रिकल फॉल्ट्स की जांच करवाते रहना चाहिए.
  • ओवरलोडिंग से बचें: एसी को ओवरलोडिंग से बचाने के लिए सही साइज का एसी चुनें और वोल्टेज स्टेबलाइजर का उपयोग करें.
  • इन सभी बातों का ध्यान रखकर एसी के ब्लास्ट होने की संभावना को काफी हद तक कम किया जा सकता है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT