window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई को गुरु मान वैसा ही बनना चाहता था गोरखपुर का मनीष यादव, ये कहानी दिलचस्प

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

UP News
Lawrence Bishnoi, Lawrence Bishnoi News, Lawrence Bishnoi Update, UP News, Gorakhpur
social share
google news

UP News: आज के दौर में अगर देश के सबसे बड़े गैंगस्टरों की गिनती होगी, तो उसमें लॉरेंस बिश्नोई का नाम जरूर होगा. कई राज्यों की पुलिस और जांच एजेंसी की पकड़ के बाद भी लॉरेंस बिश्नोई गैंग पर पूरी तरह से शिकंजा नहीं लगाया जा सका है. इस गैंग के सदस्य लॉरेंस बिश्नोई के इस इशारे पर देश-विदेश में घटनाओं को अंजाम देते ही रहते हैं. मगर अब लॉरेंस बिश्नोई छोटे-बड़े अपराधियों को भी अपनी तकफ आकर्षित कर रहा है.

दरअसल यूपी एसटीएफ ने गोरखपुर से मनीष यादव नाम के अपराधी को गिरफ्तार किया है. काफी समय से यूपी एसटीएफ को इसकी तलाश थी. दरअसल मनीष क्राइम की दुनिया में अपना बड़ा नाम करना चाहता था. इसके लिए वह गोरखपुर के रहने वाले शशांक पांडे से भी मिला था. मनीष का सपना था कि लॉरेंस बिश्नोई की तरह उसका भी एक दिन अपराध की दुनिया में नाम कायम हो जाए. मगर यूपी एसटीएफ ने उसे गिरफ्तार कर लिया है.

शार्प शूटर बनना चाहता था मनीष यादव

बता दें कि मनीष यादव शार्प शूटर बनना चाहता था. उसका सपना लॉरेंस बिश्नोई के लिए एक दिन काम करने का था. इसके लिए वह पूरी तैयारी भी कर रहा था. उसने अपराधियों से मिलना-जुलना शुरू कर दिया था. उसने असलहा सप्लाई करने का भी काम किया और उससे कुछ रुपये कमाएं. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

दरअसल मनीष यादव हथियार खरीदने के चक्कर में था. उसका लक्ष्य था कि वह लॉरेंस बिश्नोई गैंग में किसी भी तरह से शामिल हो जाए और लॉरेंस बिश्नोई के लिए काम करने लगे. इसके लिए वह कुछ भी करने के लिए तैयार था.

टीवी पर लॉरेंस बिश्नोई की कहानियां देखकर उससे हुआ था प्रभावित

सामने आया है कि मनीष यादव लॉरेंस बिश्नोई से काफी प्रभावित था. वह टीवी पर लॉरेंस बिश्नोई के किस्से, उसके अपराध और उसकी कहानियां देखता था. वह लॉरेंस बिश्नोई से इतना प्रभावित हो गया कि उसने यूपी का लॉरेंस बिश्नोई बनने की ठान ली और लॉरेंस बिश्नोई के गैंग से जु़ड़ने का सपना देखने लगा.

ADVERTISEMENT

बताया जा रहा है कि पहली बार पुलिस ने मनीष यादव को मारपीट के एक केस में हिरासत में लिया था और इसके खिलाफ केस दर्ज भी हुआ था. इसके बाद से ही पुलिस इसपर नजर रख रही थी. समय के साथ जैसे-जैसे इसकी गतिविधिया संदिग्ध होती गईं, पुलिस की नजर इसपर बढ़ती गई.

लॉरेंस बिश्नोई के चचेरे भाई के भी आया संपर्क में

बता दें कि मनीष यादव किसी भी तरह से लॉरेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ना चाहता था. अपनी कोशिशों के चलते वह विदेश में बैठे लॉरेंस बिश्नोई के चचेरे भाई अनमोल बिश्नोई के भी संपर्क में आ गया था. इस दौरान उसने 3 पिस्टल भी लॉरेंस बिश्नोई गैंग से शूटरों को दे दी थी. मगर अब पुलिस ने मनीष यादव को अरेस्ट कर लिया है.
 

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT