UP Tak रियलिटी चेक: यूपी में बिजली संकट के बीच कितना काम कर रहीं हेल्पलाइन? खुद जान लीजिए

UP Tak रियलिटी चेक: यूपी में बिजली संकट के बीच कितना काम कर रहीं हेल्पलाइन? खुद जान लीजिए
फोटो: शैलेष रावल/ इंडिया टुडे

यूपी में हो रही बिजली कटौती से लोग परेशान हैं, जिसका असर अब लखनऊ में लोड पावर कॉर्पोरेशन के टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1912 पर भी साफ नजर आ रहा है. आलम यह है कि अक्सर ऐसा हो रहा है कि इस नंबर पर कॉल तक नहीं लग रही, जिसके चलते बिजली संकट से जूझ रहे लोग अपने क्षेत्र में बिजली की समस्याओं से जुड़ी जानकारी हासिल करने में असमर्थ हो रहे हैं.

यूपी तक ने इसी की पड़ताल करने के लिए ठीक 1912 के लखनऊ मुख्यालय के बाहर से रियलिटी चेक किया, जिसमें 3 बार इस नंबर को डायल कर बिजली विभाग के अधिकारियों से बात करने की कोशिश की गई.
अहम बिंदु

1. पहले रियलिटी चेक में जब कॉल लगाई गई तो जैसे ही कस्टमर केयर के लिए कॉल ट्रांसफर की गई, तभी से लगातार लाइन व्यस्त आने लगी.

2. दूसरी बार जब कॉल किया गया, तब 1912 जो बिजली विभाग का नंबर है उसे ही अमान्य बता दिया गया.

3. तीसरी बार भी जब कोशिश की गई तब भी नंबर व्यस्त ही आया.

(यह तीनों रिलेटी चेक 15-15 मिनट के अंतर पर लिए गए).

पावर कॉर्पोरेशन का टॉल फ्री हेल्पलाइन नंबर 1912 लोगों की बिजली संबंधी शिकायतों और उनके निस्तारण के लिए जारी किया गया है. शहर में इसका मुख्यालय हुसैनगंज डिवीजन कार्यालय के पास है.

वहां के इंजीनियरों के मुताबिक, आम दिनों में 1912 टॉल फ्री नंबर पर रोजाना करीब 14,000 कॉल लोगों की रिसीव की जाती है. गर्मी के दिनों में लो-वोल्टेज और ट्रिपिंग के साथ पावर कट के मामले बढ़ने पर इस नंबर पर रोजाना आने वाली कॉल की संख्या 16000 का आंकड़ा पार कर चुकी है.

उन्होंने बताया कि 1912 पर एक साथ 50 से 55 कॉल रिसीव करने की क्षमता है. इससे अधिक कॉल आने पर फोन खुद ही कट जाता है. कई बार नंबर भी गलत बताने लगता है, जैसा कि यूपी तक के रिलेट चेक में भी हुआ. ऐसे में लोगों के बार-बार फोन लगाने पर 1912 नंबर पर कॉल कनेक्ट ही नहीं होती.

कॉल सेंटर के कर्मचारियों के मुताबिक, गर्मी में लोड होने से सर्वर में भी बार-बार दिक्कत हो रहा है.

UP Tak रियलिटी चेक: यूपी में बिजली संकट के बीच कितना काम कर रहीं हेल्पलाइन? खुद जान लीजिए
UP Tak रियलिटी चेक: जानें बिजली कटौती पर काशी और प्रयाग के लोगों ने क्या कहा?

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in