window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

शादी के फेरे और चुटकी भर सिंदूर देते हैं महिलाओं को ये कानूनी अधिकार, जानना जरूरी है

संजय शर्मा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश समेत देशभर में घरेलू हिंसा, दहेज प्रताड़ना और तलाक के मामले अक्सर देखे जाते हैं.

इन सब में अधिकांश महिलाएं ऐसी होती हैं जो ये सब चुपचाप सहती रहती हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

दरअसल हमारी न्याय व्यवस्था महिलाओं को शादी के तुंरत बाद कुछ अधिकार देती है.

इसके लिए कोई सर्टिफिकेट जारी नहीं होता है बल्कि शादी का सर्टिफिकेट ही इन अधिकारों का सबूत होता है.

ADVERTISEMENT

सुप्रीम कोर्ट में वकील विष्णु शंकर जैन बता रहे हैं महिलाओं के वे अधिकार जो पत्नी बनने के बाद मिलते हैं.

पत्नी और बच्चों के जीवन यापन यानी भोजन, सुरक्षा शिक्षा, चिकित्सा सहित सभी जिम्मेदारी पति पर होती है.

ADVERTISEMENT

स्त्रीधन को महिला किसी भी सूरत में अपने पास सुरक्षित या संरक्षित रख सकती है. महिला के मर्जी के बगैर उसे कोई नहीं ले सकता.

सगाई से लेकर शादी तक महिला को मिलने वाला शगुन, तोहफे, मुंह दिखाई, रस्मो-रिवाज के दौरान मिलने वाला धन या नकद स्त्रीधन होता है.

पुश्तैनी घर या अचल संपत्ति में भी उसका हक कानूनी तौर पर बन जाता है.

हालांकि संपत्ति पर हक तभी संभव है जब वे बहू के रूप में बुजुर्ग सास-ससुर या अन्य बुजुर्गों की सेवा करें.

यदि वो अपना ये दायित्व निभाने में अक्षम रहती हैं तो सास-ससुर उसे घर से बाहर भी कर सकते हैं.

तलाक लेने वाली पत्नी अगर नहीं कमाती तो वो पति को कमाई में से भरण-पोषण के लिए धन राशि पाने की हकदार होती है.

घरेलू हिंसा निवारण अधिनियम की धारा 18 से 23 के बीच पत्नी के अधिकारों का विस्तार से वर्णन किया गया है.

पढ़िए ऐसी खबरें…

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT