window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

जिस अवधेश राय हत्याकांड से हिल गया था वाराणसी, उस मामले में आज आएगा मुख्तार अंसारी पर फैसला

संतोष शर्मा

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

UP News: माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के लिए आज का दिन काफी अहम है. दरअसल आज बहुचर्चिच अवधेश राय हत्याकांड पर वाराणसी एमपी/एमएलए कोर्ट अपना फैसला सुनाने जा रही है. सभी की नजर कोर्ट के फैसले पर टिकी हैं. बता दें कि कांग्रेसी नेता अवधेश राय की हत्या 3 अगस्त 1991 में की गई थी, जिसका आरोप बाहुबली मुख्तार अंसारी और उसके गुर्गो पर लगा था.  

बता दें कि मुख्तार अंसारी इस समय बांदा जेल में बंद है. मिली जानकारी के मुताबिक, फैसले के दौरान मुख्तार अंसारी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जोड़ा जाएगा. मुख्तार के साथ-साथ भीम सिंह को भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही कोर्ट से जोड़ा जाएगा. बता दें कि भीम सिंह भी गाजीपुर जेल में गैंगस्टर एक्ट के मामले में सजा काट रहा है.

पुलिस अलर्ट पर

मुख्तार अंसारी पर आज कोर्ट का बड़ा फैसला आ सकता है. ऐसे में पुलिस भी अलर्ट पर है. पुलिस की नजर मुख्तार अंसारी गैंग के सदस्यों पर है. मुख्तार अंसारी गैंग के हर सदस्यों की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

बताया जा रहा है कि सर्विलांस और मुखबिरों के जरिए मुख्तार अंसारी से जुड़े लोगों पर भी पुलिस ने नजर बनाई हुई है. आपको ये भी बता दें कि पिछले 1 साल में मुख्तार अंसारी को 4 मामलों में सजा सुनाई जा चुकी है. मगर मुख्तार अंसारी के खिलाफ सबसे बड़ा और अहम केस अवधेश राय हत्याकांड है. अब इस केस में वाराणसी की एमपी/एमएलए अपना फैसला सुनाने जा रही है. 31 साल बाद इस केस में कोर्ट का फैसला आ रहा है.

3 अगस्त 1991 की वो सुबह, जो वाराणसी कभी नहीं भूला

3 अगस्त 1991 की सुबह वाराणसी में हल्की-हल्की बारिश पड़ रही थी. लोग अपने-अपने बिस्तरों पर चाय पी रहे थे और उठने की तैयारी कर रहे थे. इस दौरान चेतगंज थाना क्षेत्र के लहुराबीर इलाके में रहने वाले कांग्रेस नेता अवधेश राय अपने भाई अजय राय के साथ घर के बाहर खड़े हुए थे. सब कुछ सही था. मगर तभी कुछ ऐसा हुआ जिसने पूरे क्षेत्र को हिला दिया.  

ADVERTISEMENT

घर के बाहर कांग्रेस नेता अवधेश राय और उनके भाई अजय राज खड़े थे. तभी वहां एक मारुति वैन आई. वैन में बैठे बदमाशों ने अचानक कांग्रेसी नेता पर फायरिंग करनी शुरू कर दी. गोलीबारी में अवधेश राय गंभीर घायल हो गए. उन्होंने फौरन इलाज के लिए पास के अस्पताल में ले जाया गया. मगर वहां उनकी मौत हो गई.

इन पर दर्ज है केस

अवधेश राय के भाई और कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय ने इस मामले में चेतगंज थाने में मुख्तार अंसारी, भीम सिंह, कमलेश सिंह, राकेश नाइ के साथ पूर्व एमएलए अब्दुल कलाम पर एफ आई आर दर्ज कराई थी. नामजद किए गए 5 आरोपियों में एक आरोपी अब्दुल कलाम की मौत हो चुकी है.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT