window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

UP Weather: धान, गन्ना, मक्का, अरहर, सब्जी किसान ध्यान दें, यूपी में मौसम को लेकर बड़ा अलर्ट

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UP Weather
UP Weather
social share
google news

UP Weather: उत्तर प्रदेश में इन दिनों प्रचंड गर्मी पड़ रही है. हर कोई इस गर्मी और हीट वेव से परेशान है. अब सभी को मॉनसून का इंतजार है. हीट वेव और भीषण गर्मी की मार सिर्फ इंसानों पर नहीं बल्कि फसलों पर भी काफी प्रभावी तौर से पड़ रही है. किसानों के सामने हीट वेव ने नई चुनौतियां पैदा की हैं. इसी बीच मौसम विभाग ने अब बारिश की भी आशंका जताई है. मॉनसून भी आ रहा है. ऐसे में IMD ने धान, गन्ना, मक्का, अरहर और सब्जी किसानों को अलर्ट जारी कर दिया है तो वही किसानों को अहम सलाह भी दी है.

मौसम विभाग की माने तो आने वाले कुछ दिनों में जहां यूपी में बारिश भी देखने को मिलेगी तो वही हीट वेव का सामना भी करना पड़ेगा. पूर्वांचल के हिस्सों में बारिश का असर दिखेगा तो वही पश्चिम में हीट वेव अभी लोगों को प्रभावित करेगी. इसी बीच IMD ने धान, गन्ना, मक्का, अरहर और सब्जी किसानों को अहम राय दी है.

मौसम विभाग ने किसानों को लेकर क्या-क्या कहा?

सबसे पहले गन्ना किसानों की बात करते हैं. मौसम विभाग का कहना है कि लू यानी हीट वेव और तेज तापमान का असर गन्ने की फसल पर काफी पड़ा है. मौसम विभाग के मुताबिक, तापमान अधिक होने पर फसल जल्दी सुखने लगती है. तेज हवाओं से भी भीषण लू में पैधों का विकास भी ठहर जाता है. ऐसे में फसल में कीट प्रकोप का प्रभाव काफी बढ़ जाता है. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

मौसम विभाग ने गन्ना किसानों को सलाह दी है कि वह गन्ने की खड़ी फसल में हर 10 से 12 दिन के बाद शाम के समय हल्की सिंचाई करें. इसी के साथ फसल में कीटनाशकों का समय-समय पर छिड़काव करवाना चाहिए. दूसरी तरफ जब तेज हवाएं चल रही हो तो गन्ना किसान उस समय कीटनाशक का छिड़काव नहीं करे और हवा के रुकने का इंतजार करें. 

धान किसानों के लिए सुझाव

हीट वेव से धान की फसल काफी प्रभावित होती है. ऐसे में धान के किसान को शाम के समय हल्की सिचाई करके उचित नमी बनाए रखनी चाहिए. दूसरी तरफ तेज हवाएं धान की फसल की नमी जल्द खत्म कर देती हैं. ऐसे में इस समय कीटनाशक का छिड़काव नहीं करना चाहिए और हवा कम होने पर ही छिड़काव करना चाहिए.

ADVERTISEMENT

मक्का किसानों के लिए IMD का सुझाव

मक्का की फसल को लेकर मौसम विभाग का कहना है कि हीट वेव के दौरान खेतों में पड़ी फसल परिपक हो जाती हैं. मगर दाने सिकुड़ जाते हैं और पैदावार कम हो जाती है. हीट वेव और तेज तापमान के असर से जायदा मक्का को बचाने के लिए सुबह-शाम कीटनाशक का छिड़काव करना चाहिए और खड़ी फसलों की हल्की सिंचाई करके उनकी नमी बनाए रखनी चाहिए.

दूसरी तरफ तेज हवाओं में जायदा मक्का की पैदावर को भारी नुकसान होता है. तेज गति के कारण फसल गिर जाती है. तेज हवाओं के दौरान किसानों को सलाह दी जाती है कि वह पक चुकी फसल की कटाई कर लें और सही फसल को खेत में नहीं छोड़े.

ADVERTISEMENT

अरहर किसानों के लिए सुझाव

IMD की माने तो हीट वेव और अधिक तापमान की वजह से फसल में अंकुरणजमाव प्रभावित होता है. ऐसे में किसानों को सलाह दी जाती है कि वह बुवाई उचित नमी होने पर ही करें. तेज हवाओं के दौरान भी किसानों को यही कहा जाता है कि वह अरहर की फसल में उचित नमी बनाए रखे.

सब्जी और बागवानी फसल वाले किसान क्या करें?

मौसम विभाग की माने तो तेज तापमान और भीषण गर्मी के दौरान फलों की गुणवक्ता में कमी होती है और फसल गिर भी जाती हैं. ऐसे में किसान फसल में नमी बनाए रखे और शाम के समय सिंचाई अवश्य करें. इसी दौरान तेज हवाओं के चलने पर भी फसल गिर जाती है. ऐसे में किसान इस समय में नमी बनाए रखे और शाम के समय सिंचाई करें.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT