राष्ट्रपति ने विधि विश्वविद्यालय का किया शिलान्यास, चीफ जस्टिस, राज्यपाल, CM रहे मौजूद

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद अपने एक दिवसीय दौरे पर शनिवार, 11 सितंबर को प्रयागराज पहुंचे. बमरौली एयरपोर्ट पर यूपी की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और सीएम योगी आदित्यनाथ ने उनका स्वागत किया. इस दौरान राष्ट्रपति ने प्रयागराज में राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, एडवोकेट चैंबर, मल्टीलेवल पार्किंग, लाइब्रेरी और ऑडीटोरियम का शिलान्यास किया.

राष्ट्रपति के कार्यक्रम में मंच पर सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमना, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय विधि एवं न्याय मंत्री किरेन रिजिजू समेत अन्य लोग मौजूद रहे.

योजना के तहत अधिवक्ताओं के लिए लगभग 2600 चैंबर बनेंगे. इसके लिए राज्य सरकार ने 600 करोड़ रुपए की धनराशि भी रिलीज भी कर दी है. इसे दो साल में बनकर तैयार होना है. इस योजना के पूरा होने से अधिवक्ताओं की चैंबर और पार्किंग की समस्या दूर होने की संभावना है.

जानिए सीएम योगी ने आज क्या-क्या कहा

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा, “प्रयागराज गंगा-यमुना व सरस्वती ‘त्रिवेणी’ की भूमि है. मैं इस पावन धरती पर आज माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद जी के आगमन पर यूपी सरकार की ओर से उनका हृदय से स्वागत करता हूं.”

उन्होंने कहा, “न्याय प्राप्त करने के लिए लोग प्रयागराज आते हैं, लेकिन उन्हें यहां जाम का सामना करना पड़ता था. आज मुझे प्रसनत्ता है कि जो मल्टीलेवल पार्किंग बन रही है उसमें 4000 वाहन खड़े हो सकेंगे.”

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा, आज का दिन न केवल प्रयागराज की धरती के लिए बल्कि समस्त प्रदेशवासियों के लिए महत्वपूर्ण है. आज वर्षों से लंबित उन परियोजनाओं का शुभारंभ मा. राष्ट्रपति जी के कर कमलों से संपन्न हो रहा है, जिसकी आकांक्षा दशकों से पूरे प्रदेश को थी.”

बकौल सीएम, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के मार्गदर्शन में यूपी सरकार नागरिकों के जीवन में खुशहाली लाने के लिए प्रतिबद्धता से कार्य कर रही है. समयबद्ध व सहजता से न्याय उपलब्ध हो, इस दृष्टि से न्यायिक क्षेत्र में इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट हो रहे हैं.”

राष्ट्रपति कोविंद ने स्वामी विवेकानंद को लेकर क्या कहा?

ADVERTISEMENT

इस दौरान राष्ट्रपति ने कहा, “इस बात को सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि प्रयागराज के नए एनएलयू में महिला छात्रों और शिक्षकों की अधिक भागीदारी हो.”

इसके अलावा उन्होंने कहा, “128 साल पहले आज के दिन स्वामी विवेकानंद ने शिकागो विश्व धर्म सम्मेलन में भारतीय दर्शन और धर्म को दुनिया के सामने लाया था. उन्होंने दिखाया था कि भारतीय संस्कृति न्याय, सहानुभूति और सहयोग पर आधारित है.”

ADVERTISEMENT

उन्होंने आगे कहा, “अगर दुनिया ने विवेकानंद के सहयोग, सहानुभूति और सहिष्णुता के संदेश को स्वीकार कर लिया होता, तो दुनिया को 9/11 के हमले का गवाह नहीं बनना पड़ता.”

इस मौके पर देश के कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने कहा,

“सरकार देश की सभी लॉ यूनिवर्सिटीज के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए उनके साथ काम करेगी. हम न्यायपालिका की स्वतंत्रता में विश्वास करते हैं. हम आम आदमी को न्याय दिलाने के लिए न्यायपालिका के साथ मिलकर काम करेंगे.”

मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एनवी रमना ने कहा,

मैं राष्ट्रपति को उनके निरंतर प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद देता हूं. सुप्रीम कोर्ट के फैसलों का स्थानीय भाषाओं में अनुवाद करना उनका विचार था जो अब किया जा रहा है. मैं उत्तर प्रदेश में न्यायपालिका के बुनियादी ढांचे में सुधार की प्रतिबद्धता के लिए मुख्यमंत्री को भी बधाई देता हूं.

मुख्य न्यायाधीश, जस्टिस एनवी रमना

इसके अलावा, राष्ट्रपति ने आज हाई कोर्ट बार एसोसिएशन की लाइब्रेरी हॉल में तैल चित्र का अनावरण भी किया.

राष्ट्रपति प्रयागराज में आज 6 घंटे रुकेंगे. हाई कोर्ट के कार्यक्रम में शिरकत करने के बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल के पंडित केसरी नाथ त्रिपाठी के आवास पर शाम चार बजे मुलाकात करेंगे.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT