लखीमपुर खीरी हिंसा: वरुण ने वायरल वीडियो ट्वीट कर कहा- ‘यह किसी की भी आत्मा को झकझोर देगा’

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार, 3 अक्टूबर को हुई हिंसा के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है. दावा किया जा रहा है कि यह वीडियो लखीमपुर खीरी घटना का ही है. विपक्ष इस वीडियो के आधार पर सत्तारूढ़ बीजेपी पर जमकर हमलावर है. इस बीच पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने भी इस वीडियो पर प्रतिक्रिया दी है.

वरुण ने ट्विटर पर यह वीडियो शेयर कर लिखा है,

लखीमपुर खीरी में किसानों को गाड़ियों से जानबूझकर कुचलने का यह वीडियो किसी की भी आत्मा को झकझोर देगा. पुलिस इस वीडियो का संज्ञान लेकर इन गाड़ियों के मालिकों, इनमें बैठे लोगों, और इस प्रकरण में संलिप्त अन्य व्यक्तियों को चिह्नित कर तत्काल गिरफ्तार करे.”

वरुण गांधी, पीलीभीत सांसद

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

क्या है लखीमपुर खीरी हिंसा मामला?

यूपी के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में रविवार को भारी हिंसा हुई. यूपी पुलिस के मुताबिक, इस हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हुई है. हिंसा की यह घटना तिकुनिया से 4 किलोमीटर दूर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पैतृक गांव बनवीरपुर में आयोजित कुश्ती कार्यक्रम में यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के पहुंचने से पहले हुई.

संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक, प्रदर्शनकारी किसान केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे थे. मोर्चा ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के गाड़ियों के काफिले ने किसानों को रौंदा और फायरिंग भी की गई. बताया जा रहा है कि यह काफिला डिप्टी सीएम को रिसीव करने के लिए आ रहा था.

इस मामले में आशीष मिश्रा ने दावा किया है कि घटना के वक्त वह काफिले की गाड़ियों में मौजूद नहीं थे. इसके साथ ही आशीष ने दावा किया है, ”हमारे कार्यकर्ता डिप्टी सीएम को रिसीव करने जा रहे थे, जैसे ही वो लोग तिकुनिया से निकले, तो अपने आप को किसान कहने वालों ने आक्रमण कर दिया.”

ADVERTISEMENT

लखीमपुर खीरी हिंसा के मामले में इससे पहले वरुण गांधी ने यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ को चिट्ठी लिखी थी. इस चिट्ठी में वरुण ने मांग की थी कि घटना में संलिप्त संदिग्धों को चिह्नित कर आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज किया जाए. इसके अलावा उन्होंने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की.

वरुण गांधी ने चिट्ठी में लिखा था, ‘3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी में विरोध-प्रदर्शन कर रहे किसानों को निर्दयतापूर्वक कुचलने की जो हृदय विदारक घटना हुई है, उससे सारे देश के नागरिकों में एक पीड़ा और रोष है. इस घटना से एक दिन पहले ही देश ने अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी जी की जयंती मनाई थी. अगले ही दिन लखीमपुर खीरी में हमारे अन्नदाताओं को जिस घटनाक्रम में हत्या की गई, वह किसी भी सभ्य समाज में अक्षम्य है.’

बीजेपी सांसद ने आगे लिखा था, ‘इस घटना में शहीद हुए किसान भाइयों को श्रद्धांजलि देते हुए मैं उनके परिजनों के प्रति अपनी शोक संवेदनाएं प्रकट करता हूं. मेरा आपसे (सीएम से) निवेदन है कि इस घटना में संलिप्त तमाम संदिग्धों को तत्काल चिह्नित कर आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या का मुकदमा कायम कर सख्त से सख्त कार्यवाही की जाए. इस विषय में आदरणीय सर्वोच्च न्यायालय की निगरानी में सीबीआई द्वारा समयबद्ध सीमा में जांच करवाकर दोषियों को सजा दिलवाना ज्यादा उपयुक्त होगा.’

ADVERTISEMENT

लखीमपुर खीरी हिंसा: सभी 8 मृतकों की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आई, जानें क्या बात आई सामने

follow whatsapp

ADVERTISEMENT