UP की सड़कों का रिएलिटी चेक: गड्ढों का तो पूछिए ही मत, यहां पूरी रोड ही खत्म, हाल आजमगढ़ का

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 15 नवंबर तक प्रदेश की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए हैं. इससे पहले भी कई बार योगी सरकार ने प्रदेश की सड़कों को गड्ढा मुक्त करने की बातें कही हैं.

इस बीच, यूपी तक मौजूदा समय में प्रदेश की सड़कों का असल हाल जानने के लिए सड़कों का रिएलिटी चेक कर रहा है. इसी कड़ी में आज हम आपको आजमगढ़ की सड़कों का हाल बता रहे हैं. पढ़िए आजमगढ़ से राजीव कुमार की यह खास ग्राउंड रिपोर्ट.

जब हम आजमगढ़ के पंडित दीनदयाल मार्ग पर पहुंचे तो देखा कि सड़क जर्जर हालत में दिखी. इस सड़क पर आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं. सड़क की जर्जर स्थिति के चलते बाइक सवार से लेकर टेंपो ड्राइवर तक परेशान हैं. स्थानीय लोगों की मानें तो सड़क की इस जर्जर स्थिति से व्यापारी से लेकर आम पब्लिक तक परेशान हैं, जिसका सीधा असर व्यापारियों के कारोबार पर पड़ता है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

जब हमने पंडित दीनदयाल मार्ग पर रहने वाले स्थानीय निवासियों और दुकानदारों से बातचीत की तो उन्होंने बताया, “सब्जी-ठेले वाले से लेकर टेंपो बाइक वाले आए दिन गिरते हैं. दुर्घटना में काफी लोगों की गंभीर हालत तक हो चुकी हैं. सालों से हम लोग शासन और प्रशासन से लेकर स्थानीय विधायक तक गुहार लगा चुके हैं, मगर कोई सुनवाई नहीं है. आज इस सड़क पर पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है. अपनी समस्या को कहते-कहते हम लोग थक हार गए हैं. अब इस सड़क से लोगों ने आना भी बंद कर दिया है, जिससे व्यापार भी बंद हो गया है.”

पंडित दीनदयाल मार्ग पर रहने वाले मुन्ना कुमार ने बताया, “सड़क की जर्जर हालत को लेकर कई बार शिकायतें गईं, लेकिन इसकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है. आप खुद ही देख रहे हैं इस सड़क पर परेशानी के अलावा कुछ नहीं है, यहां के विधायक साहब भी नहीं सुन रहे हैं.”

जब हमने सड़क की जर्जर हालत को लेकर आजमगढ़ के सदर विधानसभा के एसपी विधायक दुर्गा प्रसाद यादव से बातचीत करने की कोशिश की तो उन्होंने विपक्ष में होने के नाते सारा ठीकरा सरकार पर डाल दिया.

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा, “यह रोड वाकई में खराब है, जिसके लिए हमने विधानसभा से लेकर आला अधिकारियों और जिलाधिकारी तक लिखित शिकायत भी की है. दरअसल, यह रोड नगरपालिका के अधीन आती है और इसकी सारी जिम्मेदारी सरकार की होती है. लेकिन इस सड़क के प्रति सरकार की कोई दिलचस्पी नहीं थी. हमने जब जिलाधिकारी से लेकर शासन तक यह बात पहुंचाई तो अब टेंडर होने की बात कही जा रही है.”

आजमगढ़ के जिलाधिकारी राजेश कुमार बताया है, “पंडित दीनदयाल मार्ग नगर पालिका के अधीन है. इसकी मरम्मत के लिए स्वकृति प्रदान कर दी गई है और टेंडर प्रक्रिया भी पूरी कर ली गई है. जल्द ही मरम्मत और ओवर कोटिंग का काम शुरू करा दिया जाएगा.”

ADVERTISEMENT

इसके अलावा आजमगढ़ से मेहनाजपुर के रोड का भी कमोबेश यही हाल है. इस जर्जर सड़क पर बारिश का बेहिसाब पानी जमना और आए दिन दुर्घटनाएं होना आम बात हो गई है. जब हम जिले की सड़कों का हाल जान रहे थे, उसी दौरान एक युवक जीयनपुर की तरफ से आजमगढ़ बाइक से जा रहे थे. खराब रास्ते की वजह से उनकी बाइक स्लिप कर गई और उनका पैर फैक्चर हो गया.

UP की सड़कों का रिएलिटी चेक: 9 किलोमीटर की सड़क में 3 से 4 फीट के गड्ढे, हाल इटावा का

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT