मऊ: माफिया मुख्तार अंसारी के सहयोगी पर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, करोड़ों की संपत्ति कुर्क

मऊ: माफिया मुख्तार अंसारी के सहयोगी पर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, करोड़ों की संपत्ति कुर्क
फोटो - दुर्गकिंकर सिंह

जेल में बंद मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) और उससे जुड़े उसके सहयोगियों की परेशानी खत्म होती नहीं दिख रही है. गुरुवार को मुख्तार अंसारी गिरोह के सहयोगी गैंगस्टर के आरोपी की दो करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति पुलिस और प्रशासन की संयुक्त टीम ने कुर्क कर लिया. जिलाधिकारी अरुण कुमार ने आरोपी, उसकी पत्नी और पिता के नाम पर दर्ज छह करोड़ से ज्यादा संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया था.

अहम बिंदु

पुलिस ने बताया कि शेष संपत्ति को कुर्क करने की कवायद की जा रही है. मुख्तार अंसारी के करीबी रफीक अहमद के द्वारा यह संपत्ति अवैध रूप से अर्जित धन के द्वारा बनाई गई थी. पुलिस द्वारा ढोल नगाड़े बजाकर , माइक से अनाउंस कर की जा रही कार्रवाई के बारे में लोगों को दी जानकारी दी गयी.

बता दें कि इसके पहले भी मुख्तार के इस करीबी के ऊपर पुलिस के द्वारा कार्रवाई की जा चुकी है. पुलिस द्वारा की जा रही कुर्की इस कार्रवाई के समय भारी पुलिस बल ,सीओ सिटी , सिटी मजिस्ट्रेट , एसडीएम, तहसीलदार सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी मौके पर मौजूद रहे. मऊ जनपद के थाना कोतवाली क्षेत्र के पठान टोला स्थित भूखंड को कुर्क करने की कार्रवाई की गई है.

मुख्तार अंसारी के करीबी रफीक अहमद की अवैध प्रॉपर्टी को कुर्क करते समय मौके पर मौजूद मऊ नगर क्षेत्र के सीओ सिटी धनंजय मिश्रा ने बताया कि यह आपराधिक माफिया मुख्तार अंसारी आईएस 191 गैंग के सहयोगी हैं. इसका नाम रफीक अहमद टाइगर है.

इसके ऊपर गैंगस्टर एक्ट का मुकदमा पंजीकृत था, जिसकी विवेचना प्रभारी निरीक्षक दक्षिण टोला के द्वारा की जा रही थी. उसमें अपराध के द्वारा अर्जित संपत्ति के बारे में रिपोर्ट दी गई थी. जिसमें जिलाधिकारी महोदय के द्वारा उसका मुकदमा अपने यहां दर्ज करके उसकी सुनवाई करके इनकी अवैध संपत्ति आराजी संख्या ( 220 ) 40 कड़ी है. जिसका बाजारू मूल्य लगभग 02 करोड़ रुपए है. उसको कल 16 नवंबर को उन्होंने कुर्क करने का आदेश दिया है.

मऊ: माफिया मुख्तार अंसारी के सहयोगी पर प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, करोड़ों की संपत्ति कुर्क
संभल: बीच सड़क से छात्र का दिन-दहाड़े अपहरण की कोशिश, शोर मचाने पर ग्रामीणों ने बाचाया

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in