window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

हाथरस कांड के आए फैसले पर प्रियंका ने दी प्रतिक्रिया, BJP सरकार पर बोला हमला, ये सब सुनाया

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Hathras Kand: कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने साल 2020 में हुए हाथरस कांड को लेकर कोर्ट द्वारा सुनाए गए फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया दी है. प्रियंका गांधी ने इस मामले को लेकर भाजपा और प्रदेश की योगी सरकार को निशाने पर लिया है. आपको बता दें कि गुरुवार को हाथरस की एससी-एसटी कोर्ट ने हाथरस मामले में अपना फैसला सुनाया था. कोर्ट ने चार आरोपियों में से केवल संदीप नामक युवक को ही दोषी माना. कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई और 50000 रुपये का जुर्माना लगाया. इसके अलावा, कोर्ट ने बाकी तीन आरोपियों को बरी कर दिया. वहीं, पीड़ित पक्ष ने अब फैसले के विरोध में हाईकोर्ट जाने का ऐलान किया है. अब इसी मामले को लेकर प्रियंका गांधी, सरकार पर सवाल खड़े कर रही हैं.

प्रियंका ने ट्वीट कर कहा, “हाथरस का पीड़ित परिवार कह रहा है कि उन्हें न्याय नहीं मिला. 8 मार्च को विश्व महिला दिवस पर बीजेपी सरकार महिला सशक्तिकरण की खोखली बातें करेगी. लेकिन, क्या हाथरस केस में सरकार ने संवेदनशीलता दिखाई? क्या सरकार के प्रतिनिधि पहले दिन से हाथरस की पीड़िता व उसके परिवार के साथ खड़े थे?”

उन्होंने आगे कहा, “क्या सरकारी प्रतिनिधियों द्वारा ‘बलात्कार नहीं हुआ है’ जैसे बयान देकर न्याय की प्रक्रिया को प्रभावित नहीं किया गया?”

क्या है मामला?

आपको बता दें कि हाथरस की 19 वर्षीय पीड़िता की 14 सितंबर को उसके गांव (बूलगढ़ी) के चार लोगों द्वारा कथित दुष्कर्म के एक पखवाड़े बाद दिल्ली के एक अस्पताल में मौत हो गई थी. पीड़िता का आधी रात को उसके गांव में अंतिम संस्कार कर दिया गया था.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

पीड़िता के परिवार के सदस्यों ने आरोप लगाया था कि आधी रात के बाद किया गया अंतिम संस्कार उनकी सहमति के बिना हुआ था और उन्हें अंतिम बार शव घर लाने की अनुमति तक नहीं दी गई थी.

गौरतलब है कि इस चर्चित इस मामले में उस समय अभिनेता, नेता और सामाजिक कार्यकर्ता आदि की सोशल मीडिया पर प्रतिक्रियाएं आईं थीं.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT