मायावती का कांग्रेस पर वार, कहा- ‘दलितों के नाम पर घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें’

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) की सुप्रीमो मायावती ने रविवार, 10 अक्टूबर को सिलसिलेवार तरीके से ट्वीट्स कर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस पर निशाना साधा. आइए जानते हैं कि मायावती ने क्या-क्या कहा.

कांग्रेस को घेरते हुए मायावती ने कहा,

“राजस्थान के हनुमानगढ़ में दलित की पीट-पीट कर की गई हत्या अति-दुखद और निंदनीय, लेकिन कांग्रेस हाईकमान चुप क्यों? क्या छत्तीसगढ़ और पंजाब के सीएम वहां जाकर पीड़ित परिवार को 50-50 लाख रुपए की मदद देंगे? बीएसपी जवाब चाहती है वरना दलितों के नाम पर घड़ियाली आंसू बहाना बंद करें.”

बीएसपी चीफ, मायावती

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर मायावती ने यूपी की बीजेपी सरकार पर साधा निशाना-

मायावती ने ट्वीट कर कहा, “यूपी के लखीमपुर खीरी जघन्य कांड में केंद्रीय मंत्री के बेटे का नाम सुर्खियों में आना यह बीजेपी सरकार की कार्यशैली पर अनेकों सवाल खड़े करता है. ऐसे में बीजेपी अपने मंत्री से खुद ही इस्तीफा ले तभी वहां पीड़ित किसानों को कुछ न्याय की उम्मीद हो सकती है. बीएसपी की यह मांग.”

ADVERTISEMENT

वहीं, बीजेपी की अगुआई वाली केंद्र सरकार को भी मायावती ने आड़े-हाथों लिया-

मायावती ने कहा, “इसके अलावा, जम्मू-कश्मीर में आए दिन वहां आतंकियों द्वारा की जा रही निर्दोष लोगों की हत्या अति-दुखद और शर्मनाक. केंद्र सरकार सख्त कदम उठाए, बीएसपी की यह मांग.”

बात लखीमपुर खीरी हिंसा मामले की करें तो उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने 3 अक्टूबर इस मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा को शनिवार को करीब 12 घंटे की पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर लिया. आधी रात के बाद उन्हें ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया है.

ADVERTISEMENT

इस मामले में वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी (एसपीओ) एसपी यादव ने बताया कि आशीष की पुलिस रिमांड के लिए अर्जी दी गई थी और अदालत ने इस अर्जी पर सुनवाई के लिए 11 अक्टूबर की तारीख तय की है.

लखीमपुर खीरी हिंसा: जानिए 12 घंटे की पूछताछ में 10 बड़े सवालों पर आशीष मिश्रा ने क्या कहा

follow whatsapp

ADVERTISEMENT