window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

बाहुबली नेता धनंजय सिंह ने जौनपुर से किया सियासी जंग का ऐलान, चुनाव लड़ेंगे तो किसका नुकसान?

यूपी तक

ADVERTISEMENT

धनंजय सिंह
Jaunpur
social share
google news

Jaunpur News: भाजपा ने उत्तर प्रदेश की 51 लोकसभा सीटोंं पर अपने उम्मीदवार उतारकर अपने पत्ते खोल दिए हैं. भाजपा ने जौनपुर लोकसभा सीट से कृपाशंकर सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया है. बता दें कि जैसे ही भाजपा ने अपने उम्मीदवार का नाम ऐलान किया, तभी बाहुबली धनंजय सिंह भी मैदान में आ गए. दरअसल पूर्व सांसद और बाहुबली धनंजय सिंह ने जौनपुर से लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है.

धनंजय सिंह ने खुद दी जानकारी

पूर्व सांसद और बाहुबली धनंजय सिंह ने अपने अनोखे अंदाज में लोकसभा चुनाव लड़ने की जानकारी जनता को दी है. उन्होंने अपने सोशल मीडिया X पर एक पोस्टर जारी किया. पोस्टर पर लिखा है, ‘जीतेगा जौनपुर जीतेंगे हम’. पोस्टर पर धनंजय सिंह की फोटो लगी है.

इस पोस्टर को शेयर करते हुए पूर्व सांसद और बाहुबली धनंजय सिंह ने लिखा, साथियों! तैयार रहिए...लक्ष्य बस एक लोकसभा 73 , जौनपुर. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

साथियों! तैयार रहिए...
लक्ष्य बस एक लोकसभा 73 , जौनपुर
#Election2024 pic.twitter.com/0UXtsAEzCZ

— Dhananjay Singh (@MDhananjaySingh) March 2, 2024 ">

ADVERTISEMENT

किसका होगा नुकसान

बता दें कि जौनपुर लोकसभा चुनाव में अभी तक मुख्य मुकाबला भाजपा और सपा के बीच ही माना जा रहा था. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सपा ने यहां से जीत भी हासिल की थी. ऐसे में धनंजय सिंह ने भी लोकसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है. बता दें कि धनंजय सिंह का क्षेत्र में अपना जनाधार है. वह राजपूत समाज से आते हैं. एक बड़े वोट बैंक पर उनकी मजबूत पकड़ है.

साल 2022 में हुए विधानसभा चुनाव की ही बात करें तो धनंजय सिंह को जौनपुर की मल्हनी विधानसभा से हार का सामना करना पड़ा था. मगर उन्होंने सपा के लकी यादव को मजबूत टक्कर दी थी. बता दें कि धनंजय सिंह को 78 हजार से अधिक वोट मिले थे और वह 15 हजार वोटों से चुनाव हार गए थे.

ADVERTISEMENT

इससे पहले हुए विधानसभा चुनाव में भी धनंजय सिंह को हार का सामना करना पड़ा. मगर उन्हें वोट भारी संख्या में मिले. राजनीतिक गलियारों में इस बात की चर्चा है कि धनंजय सिंह के मैदान में आने से वोटों का समीकरण बदल सकता है.

कौन हैं धनंजय सिंह?

बता दें कि धनंजय सिंह जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव हैं. चर्चाएं हैं कि वह लोकसभा चुनाव 2024 में टिकट हासिल करने की काफी कोशिश कर रहे थे. मगर भाजपा ने पूर्व कांग्रेसी नेता कृपाशंकर सिंह को अपना उम्मीदवार बनाया. 

बता दें कि धनंजय सिंह इससे पहले बसपा में भी जुड़े रहे हैं और जौनपुर से लोकसभा चुनाव जीतकर वह सदन भी पहुंचे. मगर बसपा सुप्रीमो मायावती ने धनंजय सिंह को साल 2011 में पार्टी से निकाल दिया. इससे पहले धनंजय सिंह जेडीयू से विधायक भी रह चुके थे. ऐसे में एक बार फिर वह जेडीयू में शामिल हो गए. 

बता दें कि इसके बाद से धनंजय सिंह राजनीति में सफलता हासिल नहीं कर पाए, 2014 से लेकर 2017 और 2022 तक में धनंजय सिंह को हार का सामना करना पड़ा. ऐसे में एक बार फिर अब वह जौनपुर लोकसभा से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT