बाहुबली अतीक अब AIMIM में, अयोध्या में क्यों बोले ओवैसी कि चलिए कराते हैं DNA टेस्ट?

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

तीन दिन के अपने यूपी दौरे के पहले दिन अयोध्या पहुंचे AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने बाहुबली नेता अतीक अहमद और उनकी पत्नी को पार्टी की सदस्यता दिलाई. इस दौरान ओवैसी सिर्फ बीजेपी सरकार पर नहीं बल्कि पूर्ववर्ती अखिलेश यादव की सरकार पर भी जमकर बरसे. बाहुबली नेता अतीक के ऊपर केस के संदर्भ में ओवैसी ने कहा कि केस तो बीजेपी नेताओं पर भी हैं, यूपी में 37 फीसदी बीजेपी विधायकों पर आपराधिक मुकदमे हैं. उन्होंने कहा, ‘यूपी सरकार ने मुजफ्फरनगर दंगों के 77 मामले वापस लिए. सीएम ने खुद अपने केस वापस लिए. इससे बात जाहिर हो गई जिस किसी नेता का नाम प्रज्ञा होगा, अय होगा, संदीप होगा, सुरेश होगा, कपिल होगा वह लोकप्रिय नेता होगा, जिसका नाम अतीक होगा, शहाब होगा, मुख्तार होगा, वह बाहुबली हो जाएगा, ये रिएलिटी है.’

आखिर कहां से शुरू हुआ डीएनए टेस्ट का जिक्र?

अयोध्या में प्रेस कॉन्फ्रेसं के दौरान ओवैसी से सीएम योगी के संबंध में एक सवाल पूछा गया. पूछा गया कि आपने कहा था कि सीएम योगी यूपी के नहीं उत्तराखंड के हैं तो इसपर योगी ने कहा है कि डीएनए टेस्ट करा लें पता चल जाएगा कौन कहां का है, इसपर आप क्या कहेंगे? ओवैसी ने इस सवाल के जवाब में कहा, ‘करा लेते हैं डीएनए, आइए आप कराएंगे तो हम भी करा लेंगे. संविधान को नहीं मानेंगे, डीएनएन टेस्ट कराएंगे तो आइए.’

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

ओवैसी ने संघ प्रमुख मोहन भागवत के बयान पर भी तीखी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि ‘संघ के लोगों का इतिहास कमजोर होता है. आरएसएस की जो सोच है, गोलवरकर और सावरकर की बातें भागवत बोल रहे हैं. मोहन भागवत को संविधान की पहली किताब देखनी चाहिए जिसमें मुगल बादशाह अकबर की फोटो है, टीपू सुल्तान की है, उसपर क्या कहेंगे.’

‘राजभर के साथ, 100 सीटों पर लड़ने की तैयारी’

ओवैसी ने एक बार फिर दावा किया कि यूपी में उनकी 100 सीटों पर लड़ने की तैयारी है. साथ ही यह भी कहा कि वह सुहेलदेव पार्टी के ओम प्रकाश राजभर के साथ हैं. उन्होंने कहा कि सितंबर में राजभर से दुबारा मुलाकात होगी.

ADVERTISEMENT

मुजफ्फरनगर दंगों पर अखिलेश यादव को घेरा ओवैसी सत्ताधारी बीजेपी के अलावा अखिलेश यादव पर भी काफी हमलावर दिखे. उन्होंने कहा कि मुजफ्फरनगर कांड में आजादी के बाद 50 हजार लोग बेघर हुए तो अखिलेश उस वक्त गूंगे थे. ओवैसी ने कहा कि ’19 परसेंट मुस्लिम आपकी गुलामी करते रहे। हिस्सेदारी की बात होती है, तो आप बात ही नहीं करते। अगर अखिलेश मुज़फ्फरनगर दंगो पर उस वक्त केस चला देते तो योगी कुछ नही कर पाते। क्यों नही किया? ये सब नहीं चाहते की मुस्लिम आगे आएं। हम संविधान सम्मत तरीके से मुस्लिमों की स्वतंत्र आवाज चाहते हैं.’

वोट काटने के आरोपों का भी दिया जवाब

अक्सर ओवैसी की पॉलिटिक्स के हिसाब से उन्हें बीजेपी की बी टीम या अल्पसंख्यकों वोटों को काटने वाले फैक्टर के रूप में चिन्हित किया जाता है. ओवैसी ने इसका भी जवाब दिया. ओवैसी ने कहा, ‘मुस्लिम ने आपको झोली भर भर कर वोट दिया। क्यों नही जीत पाए आप। हम बिहार में 20 सीटों पर लड़े जीते 5, 9 पर गठबंधन जीत गया, 5 सीट पर एनडीए जीत गया। 5 और 9 मिला लेंगे तब भी बहुमत के करीब नहीं है। हम चुनाव लड़ेंगे, क्योंकि किसी के गुलाम नहीं हैं. हम 60 साल से सबको जीता रहे हैं, अब मुसलमान जीतेगा’

ADVERTISEMENT

रिपोर्ट: समर्थ श्रीवास्तव.

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT