'हमने उसे चलना सिखाया और वो हमें रौंदते चला गया', अखिलेश के लिए शिवपाल ने ये सब कहा?

'हमने उसे चलना सिखाया और वो हमें रौंदते चला गया', अखिलेश के लिए शिवपाल ने ये सब कहा?
शिवपाल यादव और अखिलेश यादव.(फाइल फोटो: @yadavakhilesh/ट्विटर)

पूरे देशभर में आज ईद-उल-फितर का त्योहार धूमधाम से मनाया जा रहा है और इस मौके पर सभी राजनेता लोगों को ईद की बधाई दे रहे हैं. इसी कड़ी में प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने भी लोगों को ईद की बधाई दी है. मगर उन्होंने बधाई देने के साथ ही अप्रत्यक्ष तौर पर समाजवादी पार्टी चीफ अखिलेश यादव पर तीखा हमला बोला है.

इन दिनों अपने भतीजे अखिलेश यादव से नाराज बताए जा रहे चाचा शिवपाल सिंह यादव ने ईद के मौके पर एक ट्वीट कर कहा-

"अपने सम्मान के न्यूनतम बिंदु पर जाकर मैंने उसे संतुष्ट करने का प्रयास किया. इसके बावजूद भी अगर नाराज हूं तो किस स्तर तक उसने हृदय को चोट दी होगी! हमने उसे चलना सिखाया.. और वो हमें रौंदते चला गया..एक बार पुनः पुनर्गठन,आत्मविश्वास और सबके सहयोग की अप्रतिम शक्ति से ईद की मुबारकबाद."

बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के परिणामों के बाद से अखिलेश यादव और चाचा शिवपाल सिंह यादव के बीच में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. पिछले कई दिनों से शिवपाल सिंह यादव, अखिलेश यादव से नाराज बताए जा रहे हैं. अब दोनों के बीच की नाराजगी जग-जाहिर हो चुकी है. हाल ही में दोनों में 'जुबानी जंग' भी देखने को मिली थी.

अखिलेश ने शिवपाल सिंह यादव को लेकर यहां तक कह दिया था, "जो बीजेपी से मिलेगा वो समाजवादी पार्टी में नहीं रहेगा." अखिलेश के इस बयान के बाद शिवपाल ने बिना देरी करते हुए कहा था कि अगर हमारे नेता को यह लगता है कि मैं उनके साथ नहीं हूं तो वह मुझे तुरंत पार्टी से निकाल दें.

शिवपाल यादव की बीजेपी में जाने की अटकलों पर अखिलेश यादव ने कहा था, "अगर बीजेपी हमारे चाचा को लेना चाहती है तो अच्छी बात है. ले ले जल्दी. देर क्यों कर रहे हैं? मुझे चाचा से कोई नाराजगी नहीं है. ये बीजेपी बता सकती है वो क्यों खुश हैं."

दरअसल, शिवपाल ने हाल ही में सीएम योगी से मुलाकात की थी और उसके बाद उन्होंने सीएम योगी की तारीफ की थी. जिसके बाद से कयास लगाए जाने लगे कि उनकी बीजेपी से नजदीकी बढ़ गई है और वह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

यूपी तक से बातचीत में एक बार शिवपाल सिंह यादव ने कहा था, "रही बात बीजेपी से संबंधों की तो जब वक्त आएगा मैं क्या फैसला लूंगा, वह मैं बताऊंगा. अभी पार्टी की समीक्षा चल रही है, कुछ दिनों के बाद जब समीक्षा होगी, तब मैं बताऊंगा कि मेरा फैसला क्या होगा."

बताते चलें कि शिवपाल सिंह यादव समाजवादी पार्टी के टिकट पर जसवंतनगर विधानसभा सीट से विधायक चुने गए हैं. वह लगातार एसपी में खुद की उपेक्षा का आरोप लगा रहे हैं.

आने वाले समय में देखना दिलचस्प होगा कि शिवपाल सिंह यादव और अखिलेश यादव के बीच चल रही 'जुबानी जंग' आखिर किस सियासी मोड़ पर खत्म होती है. मगर इससे मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी की छवि पर असर जरूर पड़ रहा है, जिससे पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव दुखी हैं.

शिवपाल यादव और अखिलेश यादव.
क्या शिवपाल यादव राज्यसभा जाएंगे? अखिलेश कुनबे में फिर दरार के संकेत, BJP ने की ये तैयारी

संबंधित खबरें

No stories found.