अस्पताल में RO का पानी न मिलने पर नाराज हुए डिप्टी CM, बोले- मरीजों को भगवान समझें डॉक्टर

अस्पताल में RO का पानी न मिलने पर नाराज हुए डिप्टी CM, बोले- मरीजों को भगवान समझें डॉक्टर
फोटो: उदय गुप्ता

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार पार्ट-2 का गठन हुए तकरीबन एक महीने से ज्यादा का वक्त हो रहा है. एक तरफ अपराधियों और अवैध कब्जेदारों के खिलाफ सरकार का बुलडोजर दौड़ रहा है. वहीं दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम और स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक भी जबरदस्त तरीके से सक्रिय दिखाई दे रहे हैं और सूबे की स्वास्थ्य सेवाओं का हाल जानने के लिए लगातार ग्राउंड जीरो पर दौरे कर रहे हैं.

इसी कड़ी में उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक शनिवार को पूर्वी उत्तर प्रदेश के चंदौली के दौरे पर थे. अपने जनपद भ्रमण के दौरान डिप्टी सीएम ने न सिर्फ जिला अस्पताल का निरीक्षण किया, बल्कि सैयदराजा में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज का दौरा भी किया और प्रगति का हाल जाना. डिप्टी सीएम ने एक गांव में चौपाल भी लगाई और सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों से बातचीत की. जिला अस्पताल में डिप्टी सीएम को कई खामियां मिलीं, जिसको लेकर उन्होंने अधिकारियों की जमकर फटकार भी लगाई.

दरअसल, जिला अस्पताल के दौरे पर पहुंचे डिप्टी सीएम ने जब अस्पताल की पेयजल व्यवस्था की जांच पड़ताल शुरू की तो पता चला कि मरीजों और उनके तीमारदारों को बिना आरओ प्लांट के वाटर सप्लाई की जा रही है. इसके बाद डिप्टी सीएम बृजेश पाठक ने अस्पताल के कर्मचारियों को जमकर फटकार लगाई और तत्काल प्रभाव से आरओ प्लांट लगाने का निर्देश दिया. इस दौरान बृजेश पाठक ने कहा कि सरकार सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाओं को ऐसा करने के लिए कृत संकल्पित है.

अहम बिंदु

इस दौरान बृजेश पाठक ने कहा, "आज हमने जिला चिकित्सालय चंदौली का निरीक्षण किया है. यहां पर कई खामियां मिली हैं. उनको सुधारने के लिए हमने निर्देश दिए हैं. अपर सचिव अमित मोहन से भी हमने कहा है और यहां के दो मुख्य चिकित्सा अधीक्षक हैं, उनसे भी कहा है कि मरीजों के हित के लिए जो शासन ने दवाइयां उपलब्ध कराई हैं, जो संसाधन उपलब्ध कराए हैं उनको गरीबों के हित में जनता के हित में उपयोग करें और कुछ हमें मिलने पर हम बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेंगे और कार्रवाई करेंगे."

उपमुख्यमंत्री ने आगे कहा, "अस्पताल परिसर में मरीजों को भगवान मानकर सेवा करें. उनको महसूस होना चाहिए कि मरीजों को वह अपने घर में दवाई करने के लिए इलाज करने के लिए आए हैं. किसी भी परिस्थिति में मरीजों से और उनके परिजनों से दुर्व्यवहार बिल्कुल भी ठीक बात नहीं है. हमने सब से निवेदन किया है चिकित्सक और पैरामेडिकल स्टाफ भी हमारे परिवार के सदस्य हैं. हम सब लोग मिलकर के उत्तर प्रदेश की चिकित्सकीय व्यवस्था को बेहतर बनाने का प्रयास करें."

जिला अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद डिप्टी सीएम सैयदराजा में बन रहे मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण के लिए भी पहुंचे. यहां पर डिप्टी सीएम बृजेश पाठक ने मेडिकल कॉलेज के निर्माण में हो रही प्रगति का हाल जाना और अधीनस्थों को जरूरी निर्देश दिए. निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने के बाद डिप्टी सीएम सदर ब्लॉक के सीकरी गांव पहुंचे. यहां पर उन्होंने जन चौपाल लगाई. जन चौपाल के दौरान डिप्टी सीएम बृजेश पाठक सरकारी योजनाओं कि लाभार्थियों से रूबरू हुए. यहां पर डिप्टी सीएम ने लाभार्थियों से सीधे वार्तालाप किया और यह जानने की कोशिश की कि सरकारी योजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों तक पहुंच पा रहा है या नहीं.

इस संदर्भ में उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने बताया कि ग्राम पंचायत सिकरी में चौपाल लगाकर हमने सभी भाइयों, बहनों, बुजुर्गों और महिलाओं से बातचीत की है.

उन्होंने कहा,

"आदरणीय मोदी जी की योजनाएं हैं, आदरणीय योगी जी की योजनाएं हैं वह सकुशल उन तक पहुंच रही हैं या नहीं, कोई दिक्कत तो नहीं है. इस प्रकार की बातचीत सभी बहनों माताओं और बुजुर्गों से हमने की है. गांव में सभी को जो अनुमन्य है उनको प्रधानमंत्री आवास मिले, महीने में दो बार राशन मिले, वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित महिला पेंशन, दिव्यांग पेंशन जो सरकार की अन्य योजनाएं नीचे तक पहुंचे. उसमें कोई गड़बड़ी ना हो इसका फिजिकल वेरीफिकेशन हमने आज किया है."

बृजेश पाठक

उपमुख्यमंत्री ने आगे कहा, "यहां पर कोई शिकायत सामान्यतः नहीं मिली है. यहां पर जो मेडिकल कॉलेज निर्माणाधीन है उसकी गति ठीक है समय से पहले पूरा हो जाएगा और उसकी गुणवत्ता भी ठीक है. कुछ टेक्निकल परेशानियां थी उनको दूर करने के निर्देश दे दिए गए हैं."

अस्पताल में RO का पानी न मिलने पर नाराज हुए डिप्टी CM, बोले- मरीजों को भगवान समझें डॉक्टर
चंदौली: जाति आ रही थी आड़े, काउंसलिंग के बाद थाने में पुलिस ने कराई प्रेमी युगल की शादी

संबंधित खबरें

No stories found.