वाराणसी: अजान-आरती विवाद के बीच लाउडस्पीकर पर बजाया 'महंगाई डायन', बोले- यही असल मुद्दा

वाराणसी: अजान-आरती विवाद के बीच लाउडस्पीकर पर बजाया 'महंगाई डायन', बोले- यही असल मुद्दा
एसपी नेता रविकांत विश्वकर्मा ने अपने घर के दो लाउडस्पीकर लगवाए हैं.फोटो: रोशन जायसवाल, यूपी तक

महाराष्ट्र से चलकर उत्तर प्रदेश तक पहुंचा अजान बनाम हनुमान चालीसा का लाउडस्पीकर विवाद अभी थमा भी नहीं था कि सपाइयों ने सरकार को घेरने का अनूठा तरीका लाउडस्पीकर से ही ढूंढ निकाला. बढ़ती महंगाई के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में समाजवादी पार्टी (एसपी) के नेता ने अपने घर के ऊपर लाउडस्पीकर लगाकर महंगाई के खिलाफ गाना बजाया.

शहर के लक्सा क्षेत्र के मिसिर पोखरा इलाके में एसपी नेता रविकांत विश्वकर्मा ने अपने घर के ऊपर बड़ा लाउडस्पीकर लगाकर पूरे दिन 'महंगाई डायन खाए जात है' का गाना बजाकर लोगों को जागरूक करने का दावा किया.

रविकांत विश्वकर्मा ने एक नहीं बल्कि दो-दो लाउडस्पीकर अपनी छत पर टांग दिया है और उससे महंगाई के खिलाफ चोट करने वाले गाने 'सखी सैंया तो खूब ही कमात है महंगाई डायन खाए जात है.......' बजा रहे हैं. गाने के साथ-साथ एसपी कार्यकर्ताओं ने अपने हाथों में महंगाई, बेरोजगारी, अपराध से जुड़ी तख्तियों को भी ले रखा है.

लाउडस्पीकर लगाने वाले एसपी नेता और इलाके के पूर्व पार्षद रविकांत विश्वकर्मा ने बताया, "आज मूल मुद्दों से भटकाने के लिए अजान बनाम हनुमान चालीसा का सहारा सरकार ले रही है, जबकि असल मुद्दे महंगाई, बेरोजगारी, अपराध और शिक्षा हैं."

उन्होंने दावा किया कि वह अपने लाउडस्पीकर के जरिए न केवल लोगों को जागरूक कर रहे हैं, बल्कि उनसे अपील भी कर रहे हैं कि वह भी अपने घरों की छतों पर इसी तरह का लाउडस्पीकर लगाकर सरकार को घेरने का काम करें.

वहीं एक अन्य एसपी कार्यकर्ता संदीप मिश्रा से जब पूछा गया है कि पुलिस प्रशासन लाउडस्पीकर उतरवा रही है और बगैर परमिशन उसको नहीं लगाया जा सकता तो उनका जवाब था कि उन्होंने किसी सार्वजनिक स्थल पर लाउडस्पीकर का प्रयोग नहीं किया है, बल्कि अपने घर की छतों पर किया है और वह भी सुप्रीम कोर्ट के मापदंडों के अनुसार.

एसपी नेता रविकांत विश्वकर्मा ने अपने घर के दो लाउडस्पीकर लगवाए हैं.
वाराणसी: मस्जिद में नमाज के वक्त यहां 5 बार बजेगा हनुमान चालीसा, लाउडस्पीकर लगाए गए

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in