window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

बरेली: फरियाद लेकर पहुंचना पड़ा महंगा, SDM ने दफ्तर में ही बना दिया मुर्गा! वीडियो वायरल

कृष्ण गोपाल यादव

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Bareilly News: अंग्रेजों का राज खत्म हुए 76 साल हो गए हैं. मगर हमारे अधिकारियों के दिमाग से शायद ब्रिटिश सोच अभी तक नहीं गई है. कुछ ऐसा ही मामला यूपी के बरेली से सामने आया है. यहां से आया एक वीडियो देशभर में वायरल हो गया है. दरअसल ये वीडियो बरेली जिले के थाना मीरगंज क्षेत्र के एसडीम ऑफिस से सामने आया है. वीडियो में दिखाई दे रहा है कि मीरगंज तहसील के एसडीएम ऑफिस में एक शख्स मुर्गा बना हुआ है और सामने एसडीएम साहब कुर्सी पर बैठे हैं. बता दें कि जो शख्स एसडीएम के सामने मुर्गा बना हुआ है, वह यहां फरियाद लेकर आया था.

वीडियो में दिख रहा है कि शख्स मुर्गा बनकर अपनी बात रख रहा है और सामने मीरगंज के एसडीएम उदित पवार बैठे हैं. इस वीडियो के सामने आते ही हड़कंप मच गया है. आरोप है कि एसडीएम ने ही शख्स को मुर्गा बनने के लिए कहा था. इस वीडियो के सामने आते ही लोग एसडीएम पर सवाल खड़े कर रहे हैं. दूसरी तरफ एसडीएम ने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया है. 

आखिर क्या है मामला

दरअसल गांव के कुछ लोग श्मशान भूमि से संबंधित मांग को लेकर एसडीएम के पास गए थे. एसडीएम पर आरोप है कि उन्होंने गांव के ही एक शख्स को इस दौरान मुर्गा बना दिया और उसका प्रार्थना पत्र फेंक दिया. इस दौरान किसी ने इस घटनाक्रम की वीडियो बना लिया और सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया. 

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

 

Loading the player...

पीड़ित ने क्या बताया

पीड़ित का कहना है कि वह श्मशान भूमि के बारे में बात करने एसडीएम के यहां आया था. मगर एसडीएम ने मुझे मुर्गा बना दिया. पीड़ित के मुताबिक, मुर्गा बनाने के बाद मैंने उनसे कहा कि मुझे मुर्गा क्यों बनाया है? तो वह गाली देने लगे. 

ADVERTISEMENT

पीड़ित के मुताबिक, जब एसडीएम साहब गाली देने लगे तो मैंने उनसे कहा कि मैं 2 बार यहां इंसाफ मांगने के लिए आया हूं. मगर मुझे इंसाफ नहीं मिला. इस बार जब तक मुझे न्याय नहीं मिलेगा तब तक मुर्गा बना रहूंगा. इसके बाद एसडीएम साहब ने कहा कि तुम नाटक कर रहे हो. 

SDM बोले- मेरे सामने आते ही खुद मुर्गा बन गया

एसडीएम उदित पवार ने अपने ऊपर लगे आरोपों को गलत बताया है. एसडीएम ने बताया कि जब वह अपने दफ्तर में पहुंचे तो 5-6 लोग मंडनपुर गांव से आए. उनमें से एक आदमी मेरे सामने आते ही मुर्गा बन गया. 

ADVERTISEMENT

एसडीएम ने आगे बताया, “मैने उससे बोला कि मुर्गा क्यों बने हुए हो? बाकी लोग जो उसके साथ आए हुए थे, मैंने उनसे भी बोला कि इसको उठाओ. इतने में ही एक आदमी ने वीडियो बना लिया और वहां से निकल गया. ये लोग जो शिकायत लेकर मेरे पास आए थे, मैंने उनकी शिकायत के निस्तारण के लिए लेखपाल से भी बोल दिया. मेरे ऊपर जो आरोप लग रहे हैं, वह गलत हैं.” 

जिलाधिकारी ने उठाया ये कदम

बता दें कि इस वीडियो के सामने आते ही हड़कंप मच गया है. बरेली डीएम शिवाकांत द्विवेदी ने मामले में एसडीएम की गलती मानी है. एसडीएम को तहसील मीरगंज से हटाकर मुख्यालय भेज दिया गया है.

क्या शिकायत लेकर पहुंचे थे ग्रामीण

मिली जानकारी के मुताबिक, गांव वाले एसडीएम के पास अपनी मांग को लेकर पहुंचे थे. दरअसल गांव में दोनों धर्मों के लोग रहते हैं. मगर गांव में कोई श्मशान घाट नहीं है. ग्रामीणों ने आरोप लगाया था कि दूसरे समुदाय के लोगों ने श्मशान घाट की जमीन को कब्रिस्तान के नाम पर कब्जा कर लिया है. ग्रामीणों की तरफ से मांग की गई थी कि जिला प्रशासन श्मशान घाट के लिए जमीन की व्यवस्था करें. फिलहाल ये वीडियो जमकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. 

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT