गो तस्कर मुजफ्फर के बाग की हो रही थी कुर्की, पुलिसवाले अमरूदों को तौलिए में भरते नजर आए

गो तस्कर मुजफ्फर के बाग की हो रही थी कुर्की, पुलिसवाले अमरूदों को तौलिए में भरते नजर आए
फोटो: पंकज श्रीवास्तव

Prayagraj News: यूपी की योगी सरकार माफियाओं और अपराधियों के खिलाफ लगातार कार्रवाई कर रही है. बता दें कि इसी क्रम में प्रयागराज के कुख्यात गौ तस्कर मोहम्मद मुजफ्फर के खिलाफ पुलिस ने बड़ी कार्रवाई की है. मगर जब पुलिस मोहम्मद मुजफ्फर के कौशांबी स्थित बाग में कारवाई करने गई तो एक अलग ही नजारा देखने को मिला. बता दें कि पुलिस प्रशासन के अधिकारी अमरूद के बाग की कुर्की करते रहे, लेकिन कुछ पुलिसकर्मी बाग में अमरूदों का लुफ्त लेते नजर आए. इस घटना की तस्वीरें सोशल मीडिया पर अब खूब वायरल हो रही हैं.

क्या है मामला?

आपको बता दें कि प्रयागराज पुलिस और प्रशाशन ने कुख्यात गौ तस्कर और कौड़िहार से सपा ब्लॉक प्रमुख मोहम्मद मुजफ्फर के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है. पुलिस ने मुजफ्फर के कौशांबी स्थित तीन बीघे अमरूद के बाग, जिसकी अनुमानित कीमत करीब 6 करोड़ रुपये है उसे कुर्क किया है. मगर इसी कुर्की की कार्रवाई के दौरान कुछ पुलिसकर्मी अमरूद खाते नर आए, तो कुछ तौलिए में अमरूदों को भरते रहे.

मिली जानकारी के अनुसार, कुख्यात गौ तस्कर मोहम्मद मुजफ्फर के खिलाफ दर्ज गैंगस्टर मुकदमे की विवेचना के दौरान पूरामुफ्ती थाना पुलिस को कौशांबी जिले के चरवा और कोखराज थाना क्षेत्रों में अपराध से अर्जित दो अवैध संपत्तियों की जानकारी मिली थी. इन संपत्तियों का राजस्व से सत्यापन कराए जाने के बाद डीएम से गैंगस्टर एक्ट 14 (1) के तहत कुर्क करने की इजाजत मांगी गई थी.

प्रयागराज के डीएम संजय खत्री द्वारा 15 नवंबर को कुर्की की इजाजत दिए जाने के बाद पूरामुफ्ती और धूमनगंज थाना पुलिस ने संयुक्त रूप से चरवा थाना क्षेत्र के भीटी देह माफी गांव में तीन बीघे अमरूद के बाग की कुर्की की.

गौरतलब है कि इन दिनों गौ तस्कर मोहम्मद मुजफ्फर जेल में बंद है. जेल से ही उसने सपा के टिकट पर कौड़िहार ब्लॉक प्रमुख पद का चुनाव भी जीता था. इससे पहले भी मोहम्मद मुजफ्फर की 25 करोड़ की संपत्ति कुर्क की जा चुकी है.

गो तस्कर मुजफ्फर के बाग की हो रही थी कुर्की, पुलिसवाले अमरूदों को तौलिए में भरते नजर आए
प्रयागराज: माफिया अतीक अहमद के बाद उसके भाई अशरफ पर शिकंजा, 7 करोड़ की संपत्ति कुर्क

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in