window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

मुलायम की दिवंगत पत्नी साधना के ड्राइवर ने उन्हें बताया ‘महात्मा’, ये बातें कर देंगी भावुक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

समाजवादी पार्टी (सपा) के संस्थापक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) की पत्नी साधना गुप्ता (Sadhna Gupta) का रविवार को लखनऊ (lucknow News) में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं, कार्यकर्ताओं और स्थानीय नागरिकों की मौजूदगी में अंतिम संस्कार कर दिया गया.

बता दें कि साधना का शनिवार को हरियाणा के गुरुग्राम में स्थित एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था. वह लंबे समय से बीमार थीं. उनका पार्थिव शरीर विक्रमादित्य मार्ग स्थित मुलायम सिंह यादव के घर से ट्रक पर रखकर घाट तक ले जाया गया. साधना के पुत्र प्रतीक यादव (Prateek Yadav) ने उन्हें मुखाग्नि दी. मुलायम सिंह यादव और सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) भी अंत्येष्टि स्थल पर मौजूद थे.

आपको बता दें कि पिपरा घाट (जहां साधना का अंतिम संस्कार हुआ) पर यूपी तक ने साधना गुप्ता के ड्राइवर से खास बातचीत की. उन्होंने को बताया वह भावुक कर देने वाला था.

साधना गुप्ता के ड्राइवर ने कहा,

“मेरे लिए तो सब कुछ वही थीं. उनके बिना समझ लीजिए कुछ नहीं है. वह बहुत अच्छे नेचर की थीं. ऐसे लोग महात्मा ही होते हैं. ऐसे लोग दोबारा मिलना बहुत मुश्किल हैं. उन्होंने बहुत लोगों के लिए बहुत कुछ किया है. ये हकीकत है कि वह लोगों के साथ इतना करती थीं, कि शायद आज कोई करता हो. पैसे से, कौड़ी से हर तरह से मदद करती थीं मैडम हमारी.”

मोहम्मद नायाब खान

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

मोहम्मद नायाब खान ने बताया कि वह करीब 7 साल से लखनऊ में साधना गुप्ता के ड्राइवर के रूप में काम कर रहे थे. उन्होंने कहा, “नेता जी उनको लकी चार्म मानते थे. साहब उनको बहुत चाहते थे, वो भी उनको बहुत मानती थीं.”

आपको बता दें कि साधना गुप्ता के अंतिम संस्कार के वक्त मुलायम सिंह खराब स्वास्थ्य के कारण अपनी गाड़ी से बाहर नहीं आए और कार में बैठे-बैठे ही उन्होंने अपनी पत्नी को अंतिम विदाई दी. अखिलेश और उनके चाचा शिवपाल सिंह यादव इस दौरान मुलायम की कार के दरवाजे के पास खड़े रहे.

साधना के अंतिम संस्कार में सपा के प्रमुख महासचिव रामगोपाल यादव, धर्मेंद्र यादव और भाजपा नेता अपर्णा यादव भी मौजूद थीं.

ADVERTISEMENT

गौरतलब है कि साधना मुलायम सिंह यादव की दूसरी पत्नी थीं. सपा संस्थापक की पहली पत्नी मालती देवी का वर्ष 2003 में निधन हो गया था. सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव मालती के ही बेटे हैं.

मुलायम की पत्नी साधना के निधन के बाद जब उनसे मिलने पहुंचे CM योगी, अखिलेश भी रहे मौजूद

ADVERTISEMENT

follow whatsapp

ADVERTISEMENT