window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

सरहद पार कर नोएडा पहुंची सोनिया अख्तर की पूरी कहानी आई सामने, पति सौरभ ने पहली बार खोला ये राज

अरुण त्यागी

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Uttar Pradesh News : मोहब्बत की खातिर अंतरराष्‍ट्रीय सरहद को लांघते हुए पाकिस्‍तान से भारत आई सीमा हैदर (Seema Haider) के बाद ऐसी कई प्रेम कहानियां सामने आने लगी हैं. सीमा हैदर का मामला अभी शांत नहीं हुआ था कि अब बांग्लादेश की सोनिया अख्तर (Bangladeshi Woman Sania Akhtar) प्यार की खातिर नोएडा पहुंच गई है. बांग्लादेश से आई महिला का आरोप है कि नोएडा के सौरभ कांत तिवारी नाम के एक शख्स से निकाह किया. फिर तीन साल तक वो बांग्लादेश में साथ रहे. लेकिन अब वो उसे छोड़कर नोएडा वापस आ गया है.

सानिया अख्तर का आरोप है कि सौरभ अब उसे अपने साथ रखने को राजी नहीं है. मामला पुलिस के पास है लेकिन इस बीच यूपी तक ने सौरभ कांत तिवारी से खास बातचीत की है. यूपी तक के सामने सौरभ ने अपना पक्ष रखा है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

सौरभ ने खोला ये राज

यूपीतक से बातचीत करते हुए सौरव कांत तिवारी ने बताया कि, ‘वह 2017 से 2021 के बीच बांग्लादेश की एक कंपनी में डीजीएम पद पर तैनात थे, इसी दौरान वो सोनिया अख्तर के संपर्क में आए.’ सौरभ ने बताया कि सोनिया से फोन और वीडियो कॉल पर बात करने के दौरान नजदीकी बढ़ी थी. एक दिन सोनिया अख्तर के परिजन उसके फ्लैट पर आ गए और जबरदस्ती धर्म परिवर्तन के कागज पर साइन करवाया और निकाहनामा पर भी साइन करवाया. उन्होंने आरोप लगाया कि यह एक तरीके का हनी ट्रैप है. निकाहनामा पर साइन करवाने के बाद सानिया अख्तर और उसके परिजन उसके साथ मारपीट करने लगे और पैसों की मांग करने लगे. इस दौरान उन्होंने सानिया अख्तर के नाम पर बांग्लादेश के ढाका में एक फ्लैट भी खरीदा.’

सानिया पर लगाया बड़ा आरोप

सौरभ कांत तिवारी ने आगे बताया कि, ‘सोनिया अख्तर और उसके परिजनों की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही थी. परिजनों ने एक करोड़ की मांग रखी जिसके बाद मैंने सानिया से अलग होने का रास्ता चुना और बांग्लादेश कोर्ट में तलाक की अर्जी लगाई. अभी तलाक का केस बांग्लादेश कोर्ट में चल रहा है. इस बीच सानिया मुझे धमकियां देती रही. मेरे रिश्तेदारों को फोटोज भेज दिए और अब भारत में आकर मुझे अपने साथ रहने को कह रही है.’ उन्होंने आगे कहा कि, ‘मैं नोएडा में थानो का चक्कर लगा रहा हूं. मुझे कोई मदद नही मिल रहा है. पुलिस सोनिया के पक्ष में बात कर रही है.’

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT