window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

नोए़डा: ऑनलाइन गेमिंग ऐप से यूं होता था फ्रॉड, 400 Cr के ट्रांजेक्शन मिले, जानें और बचें

भूपेंद्र चौधरी

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Noida News: नोएडा के थाना सेक्टर-39 पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है. पुलिस ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड के जरिए लोगों से ठगी किया करता था. पुलिस ने ऑनलाइन गेमिंग बैटिंग गिरोह के 16 लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस की मानें तो गिरफ्तार हुए आरोपियों के द्वारा लगभग 400 करोड़ के ट्रांजेक्शन की जानकारी भी सामने आई है.

विस्तार से जानिए पूरा मामला

दरसल नोएडा पुलिस को पिछले कुछ दिनों से ऑनलाइन गेमिंग फ्रॉड के जरिए धोखाधड़ी की सूचनाएं मिल रही थी. इसी दौरान थाना सेक्टर-39 पुलिस को सूचना मिली थी कि सेक्टर-108 के एक मकान में कुछ लोग अपनी पहचान छुपा के रह रहे हैं.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

पुलिस ने मामले की जांच की और मकान पर रेड डाल कर 16 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. जब इन सभी लोगों से पूछताछ की गई तो पुलिस के भी होश उड़ गए. पूछताछ पर पता चला कि ये लोग ‘महादेव बुक ऐप’ नाम के ऐप के जरिए ऑनलाइन गेमिंग बेट यानी सट्टा खिलवाकर फ्रॉड करते थे.

ऐसे फंसाते थे जाल में

ADVERTISEMENT

पुलिस की मानें तो पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि ये पहले 500 रुपए से गेमिंग बैटिंग खिलवाते थे. शुरू में ये 500 रुपये के बदले 600-700 रुपये दे देते थे. ऐसे में जब खेलने वाला पैसा जीतने लगता था और उसे डबल रकम मिलने लगती थी तो वह ज्यादा पूंजी इसमें लगा देता था.

बड़ी रकम इसमें लगते ही ये लोग उसका अकाउंट डिलीट कर देते और फोन को ऑफ कर लेते थे. इस तरह इनके द्वारा सैकड़ों लोगों से फ्रॉड किया गया था. पुलिस को अबतक इनके द्वारा ऑनलाइन गेमिंग सट्टा के जरिए लगभग 400 करोड़ के ट्रांजेक्शन की जानकारी मिली है. कई बैंक अकाउंट मिले हैं, जिसमें लगभग 2 करोड़ रुपए पुलिस ने फ्रिज भी करवा दिए हैं.

डी ग्रुप से जुड़े हैं तार

ADVERTISEMENT

मिली जानकारी के मुताबिक, इस गैंग के तार डी ग्रुप से जुड़े हुए बताए जा रहे हैं. हालांकि पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है. बता दें कि जैसे ही पुलिस को काफी बड़े अमाउंट के ट्रांजेक्शन की जनाकरी मिली पुलिस ने फौरन इसकी सूचना अन्य एजेंसियों को भी दे दी.

अब तक इस गैंग के 16 सदस्य को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि 9 सदस्य फरार है, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है. बता दें कि इस गैंग का सरगना सौरभ बताया जा रहा है जो दुबई में बैठ कर इस ऑनलाइन गेमिंग सट्टा गैंग को चलाता था. इसी के साथ सचिन नाम का व्यक्ति भारत में अलग-अलग लोकेशन पर टीम के जरिए लोगों से ठगी करता था.

बता दें कि पुलिस को इनके पास से 12 लैपटॉप, 73 मोबाइल, 6 पासबुक और 90 एटीएम कार्ड मिले हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस द्वारा गहनता से मामले की जांच की जा रही है.

इस पूरे मामले पर हरीश चंद्र (डिसीपी नोएडा) ने जानकरी देते हुए बताया, “सूचना मिलने के बाद रेड कर 16 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. ये लोग ऑनलाइन गेमिंग ऐप ‘महादेव बुक’ के जरिए ठगी करते थे. इनके द्वारा अबतक 400 करोड़ के ट्रांजेक्शन की बाते सामने आई है. इनमें से कुछ लोग दुबई जाकर ट्रेनिंग लेकर भी आए थे. गैंग का सरगना सौरभ भी दुबई में ही है. मामले की जांच की जा रही है. इस गिरोह के 9 लोग अभी गिरफ्त से बाहर हैं. उन्हें भो जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. कमिश्नर की तरफ से मामले का खुलासा करने वाली टीम को 50 हज़ार का इनाम भी दिया गया है.”

नोएडा: युवक ने बिल्डिंग से कूद कर दी जान, नशे में मिली गर्लफ्रेंड, अब सामने आई ये कहानी

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT