अयोध्या: पुलिस का दावा- 32 वर्षीय टीचर का नाबालिग से प्रेम संबंध रखना बना मौत का कारण

पुलिस के मुताबिक, इस हत्याकांड के पीछे की वजह 32 वर्षीय शिक्षिका का 17 वर्षीय नाबालिग से प्रेम संबंध रखना बना.
पुलिस के मुताबिक, इस हत्याकांड के पीछे की वजह 32 वर्षीय शिक्षिका का 17 वर्षीय नाबालिग से प्रेम संबंध रखना बना. फोटो कोलाज: यूपी तक

अयोध्या (ayodhya news) में शिक्षिका सुप्रिया वर्मा हत्याकांड (supriya verma murder case) का पुलिस ने खुलासे का दावा किया है. लगभग 1 महीने पहले हुए इस नृशंस हत्याकांड के खुलासे के लिए अयोध्या पुलिस ने हाईटेक तरीका अपनाया. सीसीटीवी कैमरे के सहारे पुलिस आरोपी तक पहुंची. इसके बाद जो खुलासा हुआ उसने हर किसी को चौंका दिया.

पुलिस के मुताबिक, इस हत्याकांड के पीछे की वजह 32 वर्षीय शिक्षिका का 17 वर्षीय नाबालिग से प्रेम संबंध रखना बना. प्रेम संबंध को शिक्षिका बनाए रखना चाहती थी और नाबालिग इससे किनारा करना चाहता था और इसी विवाद में नाबालिग ने शिक्षिका को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया.

बता दें कि 1 जून को अयोध्या के श्री राम पुरम कॉलोनी में 32 वर्षीय गर्भवती शिक्षिका को उसी के घर में बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया था. महिला के गर्दन और शरीर पर 2 दर्जन से अधिक वार किए गए थे.

पुलिस ने इस मामले की जांच के लिए तेजतर्रार अफसरों की एक टीम बनाई. जांच में पुलिस को एक सीसीटीवी फुटेज मिला, जिसमें घटना के समय दिखाई देने वाले नाबालिग का चेहरा साफ तौर पर नहीं दिख रहा था. लेकिन उसने जो टी-शर्ट पहनी थी उसका पैटर्न और रंग सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा था. सबसे पहले पुलिस ने उस तरह की टीशर्ट की फोटो रेडीमेड शॉप पर दिखाई. इसी के साथ अमेजॉन, फ्लिपकार्ट समेत उन ऑनलाइन स्टोर जो कपड़े सप्लाई करते हैं उनको भी फोटो भेजकर संपर्क किया. इसी के बाद पता चला कि घटना के 2 माह पहले शिक्षिका के घर के आगे ही ऐसी ही टीशर्ट फ्लिपकार्ट से डिलीवर की गई थी. पुलिस के लिए यह बड़ी लीड और पहली बड़ी सफलता थी.

अयोध्या के पुलिस उपमहानिरीक्षक एपी सिंह ने मामले को लेकर कहा कि निश्चित ही टी-शर्ट इस घटना की अनावरण की एक महत्वपूर्ण कड़ी रही है ,लेकिन उस टी-शर्ट का फॉरेंसिक साइंस के साथ बहुत ही बेहतरीन इस्तेमाल किया गया. उस टी-शर्ट के आधार पर जब की जांच की गई तो बहुत साक्ष्य पाए गए. जहां एक तरफ टी-शर्ट की इमेज वो टी-शर्ट और उसके साथ फॉरेंसिक साइंस का इस्तेमाल किया गया है. इसने घटना के अनावरण में महत्वपूर्ण रोल अदा किया है.

टी-शर्ट के जरिए अपचारी बालक तक पहुंचने के बाद पुलिस ने उसे बुलाया और सीधा सवाल किया जो टी-शर्ट खरीदी थी वह कहां है? इसपर नाबालिग को कुछ समझ में नहीं आया और उसने कहा टी-शर्ट घर में है.

पुलिस ने टी-शर्ट बरामद कर उसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा तो उस पर खून के ट्रेसेस नजर आए. इसके बाद पुलिस ने जब कड़ाई से पूछताछ की तो नाबालिग ने अपना जुर्म कूबुल कर लिया.

पुलिस उपमहानिरीक्षक एपी सिंह ने बताया, "नाबालिग का शिक्षिका से करीब दो-तीन साल से संबंध थे. इधर कुछ समय से इनके संबंध बिगड़ गए थे. नाबालिग को डर था यह बात जब खुलेगी तो वह अपने फ्रेंड्स को मुंह नहीं दिखा पाएगा और ना ही अपने घर वालों. वह इस रिश्ते से बाहर निकलना चाहता था, लेकिन कुछ ऐसे साक्ष्य उस शिक्षिका के पास थे, जिसके आधार पर वह नाबालिग को एक्सपोज करने की धमकी देती थी."

ये भी पढ़ें-

पुलिस के मुताबिक, इस हत्याकांड के पीछे की वजह 32 वर्षीय शिक्षिका का 17 वर्षीय नाबालिग से प्रेम संबंध रखना बना.
अयोध्या गर्भवती शिक्षिका मर्डर केस: 22 मिनट में हुई थी वारदात, अनसुलझे सवाल बन रहे चुनौती

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in