व्यापारी को ठगने के लिए दारोगा-सिपाही और यूट्यूबर ने बुना हनीट्रैप का जाल, ऐसे खुली पोल

ADVERTISEMENT

Honey trap
Honey trap
social share
google news

Uttar Pradesh News : उत्तर प्रदेश के बरेली से एक बार फिर हनीट्रैप का सनसनीखेज मामला सामने आया है. बताया जा रहा है कि वर्दी कि आड़ में चौकी इंचार्ज, सिपाही और तीन यूट्यूबर ने मिलकर एक कारोबारी को हनीट्रैप के जाल में फंसाया फिर उसे ब्लैकमेल कर सात लाख रुपये मांगने लगे. यह घटना थाना किला क्षेत्र में हुई, इसमें दारोगा, सिपाही, तीन फर्जी यूट्यूबर और पत्रकार शामिल हैं. पीड़ित की शिकायत पर पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए टीम का गठन किया था.

करोबारी को बनाया था निशाना

बता दें कि चौकी इंचार्ज दारोगा और सिपाही को सस्पेंड कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले एक शिकायत प्राप्त हुई थी. जिसमें कारोबारी ने बताया था कि उसे हनीट्रैप के केस में फंसाने की धमकी देरकर रुपये  मांगे जा रहे हैं. कारोबारी ने सूझबूझ से काम लिया और आरोपियों को पकड़वाने के लिए उनके बताए होटल पर पहुंचा. जैसे ही आरोपी होटल में घुसे तो कारोबारी ने पुलिस को फोन कर इसकी सूचना दी. लेकिन मौका मिलते ही कुछ आरोपी फरार हो गए.  

कर रहे थे ब्लैकमेल

जानकारी के मुताबिक पीड़ित कारोबारी ने पुलिस को बताया कि फर्जी पत्रकार पिछले कई वर्षों से उसको ब्लैकमेल कर रहे थे. आरोपियों ने उसकी गर्लफ्रेंड के साथ एक फोटो खींच लिए थे. इसी फोटो के आधार पर वायरल करने के नाम पर लगातार धमकी देकर पैसों की डिमांड की जा रही थी. इस पूरी घटना में कोई और नहीं बल्कि चौकी इंचार्ज, सिपाही समेत तीन पत्रकार भी शामिल थे. पीड़िता कारोबारी रामपुर का रहने वाला है और परसा खेड़ा में सचित रस नाम से एक बेकरी चलाता है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

हनीट्रैप में फंसाने की कोशिश

कारोबारी को हनीट्रैप में फंसाने के लिए एक सप्ताह में तीन बार युवती को उसके पास भेजा गया था. आरोपियों ने अशोका होटल के कमरा नंबर 101 में सानिया नाम की लड़की को बुलाया और उसे कारोबारी को फंसाने का प्लान बनाया. फिर कारोबारी सानिया में मिलने आया और उसने चुपके से उसके साथ कुछ अश्लील  फोटो लिए और सानिया ने अपने साथियों को बुला लिया और उसे ब्लैकमेल करने लेगे. कारोबारी से 7 लाख रुपये की डिमांड की. 

पुलिस कर रही जांच

वहीं इस मामले में पीड़ित ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के ऑफिस में पहुंचकर अपनी पूरी शिकायत दर्ज कराई. एसपी राहुल भाटी ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए दारोगा व सिपाही को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. पुलिस का कहना है कि इस मामले की गहराई से जांच की जा रही है, उसी के हिसाब से आगे की कार्रवाई की जाएगी. जल्द ही अन्य आरोपियों को भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा. 

ADVERTISEMENT

    Main news
    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT