UP में लॉन्च होगी ‘एक जिला एक खेल’ योजना, ODOP के बाद अब ODOS, जानें इसे

UP में लॉन्च होगी ‘एक जिला एक खेल’ योजना, ODOP के बाद अब ODOS, जानें इसे
सांकेतिक तस्वीर.फोटो: यूपी तक

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ का दूसरा कार्यकाल खेल और खिलाड़ियों के लिए खास रहने वाला है. योगी सरकार अपनी तरह की पहली योजना ‘एक जिला एक खेल’ (one district one sports, ODOS) शुरू करने वाली है. इस योजना का मकसद प्रदेश में सभी पारंपरिक खेलों को बढ़ावा देकर युवाओं को बेहतर स्वास्थ्य की ओर ले जाना भी है. योगी 2.0 के पहले 100 दिन के एक्शन प्लान में इसे भी शामिल किया गया है.

यूपी में खेल में रुचि रखने वाले युवाओं को अब एक नई योजना के जरिए प्रशिक्षण और मदद दी जाएगी. यूपी सरकार एक जिला एक उत्पाद की सफलता के बाद इसी तर्ज पर ‘एक जिला एक खेल’ शुरू करने की तैयारी में है. यूपी सरकार के खेल विभाग के 100 दिन के एजेंडे में इसे शामिल किया गया है. केंद्र से खेलों को लेकर अनुमति भी ली है. साथ ही यूपी के सभी जिलों के लिए एक-एक खेल विशेष तौर पर तय भी किया है.

क्या है एक जिला एक खेल?

ऐसा माना जाता है कि योगी सरकार के पहले कार्यकाल की सबसे सफल योजनाओं में एक है ODOP यानि एक जिला एक उत्पाद. इसका मतलब यह है कि हर जिले में जो प्रोडक्ट तैयार होता है उसको बढ़ावा देने के लिए इसे बनाने और इसके व्यवसाय के लिए सभी सुविधाएं प्रदान की जाएंगी. इस योजना से छोटे व्यापारियों को भी लाभ मिला है.

अब इसी तर्ज पर एक जिला एक खेल शुरू किया जाएगा. इसमें हर जिले के लिए एक खेल निर्धारित किया गया है. खेलों को एक से ज्यादा जिलों के लिए निर्धारित किया गया है. जिस जिले के लिए जो खेल निर्धारित है, उस जिले में उस खेल के प्रशिक्षण और सुविधाओं के लिए विशेष प्रयास किए जाएंगे.

यूपी के खेल और युवा विभाग के राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) का कहना है,

"प्रधानमंत्री मोदी जी और मुख्यमंत्री योगी जी न सिर्फ खेलों को बढ़ावा देने के लिए प्रयासरत हैं, बल्कि कैसे खिलाड़ियों को सबसे अच्छी ट्रेनिंग दी जाए, कैसे सुविधाएं दी जाएं, उसके लिए भी कोशिश की जा रही है. हम लोग अभी बैठक करके पूरी कार्ययोजना बना रहे हैं. मुख्यमंत्री के सामने इसकी प्रेजेंटेशन होगी."

गिरीश चंद्र यादव

दरअसल, सरकार की योजना सभी जिलों में उसी खेल के लिए ट्रेनिंग सेंटर खोलने की है. साथ ही खेल प्रतिभाओं को चिह्नित कर उनको ट्रेनिंग देकर तैयार किया जाएगा. इसके लिए न सिर्फ जिलों को एक-एक खेल से विशेष रूप से जोड़ा गया है, बल्कि वहां उस खेल के लिए स्टेडियम और सेंटर भी निर्धारित कर दिए गए हैं.
अहम बिंदु

इस योजना का उद्देश्य गांव और जिले की खेल प्रतिभाओं को आगे बढ़ाकर उनको प्रदेश, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ले जाना है. इन खेलों में हॉकी, बैडमिंटन, टेबिल टेनिस, लॉन टेनिस, एथलेटिक्स, कुश्ती, बॉक्सिंग, वेटलिफ्टिंग, तीरंदाज़ी, जूडो जैसे खेल हैं. जिलों में इनके लिए खेलो इंडिया सेंटर भी बनाए जाएंगे.

योगी सरकार ने अपने पिछले कार्यकाल में न सिर्फ परम्परागत और ग्रामीण खेलों को बढ़ावा दिया था बल्कि गाँव में फिटनेस सेंटर और जिमनेजियम भी बनाए थे. वहीं युवक मंगल दल को भी सक्रिय किया था. इस योजना के जरिए इन सभी खेलों से जुड़ी प्रतिभाओं को तलाश करना और मौका देना है.

सांकेतिक तस्वीर.
यूपी के सभी 403 विधानसभा क्षेत्रों में 100 बिस्तर वाले बनेंगे अस्पताल: सीएम योगी

संबंधित खबरें

No stories found.