Video: गुमशुदा बच्ची के मामले में पुलिस के इस खेल की खुल गई पोल, कइयों पर गिरी गाज

Video: गुमशुदा बच्ची के मामले में पुलिस के इस खेल की खुल गई पोल, कइयों पर गिरी गाज
फोटो: यूपी तक

सरकार बड़े-बड़े मंचों से भ्रष्टाचार मुक्ती के, कानून व्यवस्था के तमाम दावे करे लेकिन जमीन पर उतरने पर ये दावे पूरी तरह ध्वस्त हो जाते हैं. जब लोगों की सुरक्षा का दावा करने वाले ही सुरक्षा के बजाए हर चीज का दाम लगाने लगें तो समझ लीजिए राम राज्य का दावा सिर्फ हवा हवाई है.

अहम बिंदु

आखिर हम ऐसा क्यों कह रहे हैं. पहले ये जान लीजिए. वीडियो में दिख रही ये दिव्य धरती है आज़मगढ़ की और समाने है फरिहा पुलिस चौकी. तो हुआ कुछ यूं कि आजमगढ़ के निजामाबाद थाना अंतर्गत फरिहा पुलिस चौकी पर एक बच्ची गुमशुदगी के हालत में पहुंची थी. जिसके पास एक मोबाइल और ढाई हजार रुपए भी थे. यहां पुलिस वालों ने बच्ची से उसका मोबाइल और ढाई हजार रुपए अपने पास रख लिए. जिसके बाद बच्ची को उसके परिवार को सुपुर्द कर दिया, लेकिन यहां पुलिस वालों ने बच्ची का मोबाइल तो वापस कर दिया लेकिन ढाई हजार रुपयों का किया ये तो कानून के रखवाले ही जानें.

इस मामले की जानकारी जब परिजनों को हुई तो उन्होंने इस मामले की शिकायत जन सुनवाई के दौरान एसपी आज़मगढ़ को कर दी. जिसके बाद एसपी आज़मगढ़ ने मामले का त्वरित संज्ञान लेकर मामले की जांच के आदेश दे दिए. बस फिर क्या था सुरक्षा का दम भरने वाली यूपी पुलिस की सारी कलई ही धुल गई.

जांच में सभी आरोप सही पाए गए और एसपी ने तत्काल प्रभाव से चौकी प्रभारी ज्ञान प्रकाश तिवारी व कांस्टेबल सौरभ को पहले ही निलंबित कर दिया था. इसके अलावा 15 पुलिसकर्मियों को जो यहां चौकी पर तैनात थे, उनको पुलिस लाइन स्थानांतरित किया है और चौकी पर कार्य प्रभावित न हो इसलिए लाइन से 15 पुलिसकर्मियों को अब तैनाता किया गया है. पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इन पुलिसकर्मियों को महिलाओं के प्रति संवेदनशील रहने के लिए विशेष प्रशिक्षण दिया जायेगा.

Video: गुमशुदा बच्ची के मामले में पुलिस के इस खेल की खुल गई पोल, कइयों पर गिरी गाज
कानपुर: पत्नी ने कॉन्स्टेबल पति को दूसरी महिला के साथ पकड़ा, करने लगी पिटाई, Video वायरल

संबंधित खबरें

No stories found.
UPTak - UP News in Hindi (यूपी हिन्दी न्यूज़)
www.uptak.in