लखीमपुर खीरी हिंसा: BJP का कांग्रेस पर पलटवार, कहा- ‘माहौल बिगाड़ने की इजाजत नहीं’

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में 3 अक्टूबर को हुई हिंसा के बाद से राजनीति गर्म है. तमाम विपक्षी पार्टियां सत्तारूढ़ पार्टी बीजेपी पर लगातार हमलावर हैं. इस बीच विपक्षी दलों के नेताओं की लखीमपुर खीरी जाने की कोशिशों को लेकर यूपी सरकार में मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने पलटवार किया है.

न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा,

“आपको लखीमपुर जाना है, कुछ दिन बाद चले जाइएगा. आप दुखद परिवारों से मिलें इसमें कोई आपत्ति नहीं है लेकिन माहौल बिगाड़ने के लिए इजाजत नहीं दी जाती और कानून के तहत कार्रवाई हो रही है.”

सिद्धार्थ नाथ सिंह

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

उन्होंने आगे कहा, “इतिहास गवाह है कि इस आजाद देश में अगर सरदारों पर नरसंहार हुआ है तो वह कांग्रेस के शासनकाल में हुआ है और इमरजेंसी लगाकर किया गया है. ये भूल जाते हैं जब इंदिरा गांधी की हत्या हुई थी तो नरसंहार सरदारों पर हुआ था, सिख समुदाय पर किया गया था.”

सिद्धार्थ नाथ सिंह के मुताबिक, स्थिति नियंत्रित हो जाने के बाद विपक्षी पार्टियों के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने दिया जाएगा.

बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा,

“लखीमपुर खीरी में जो कुछ भी हुआ है, वो दुखद है. हमने उसके पश्चात देखा है कि चाहे किसान संगठन हो, चाहे प्रशासन दोनों ने मिलकर बातचीत की, दोनों के बीच में समन्वय हुआ, दोनों ने बातचीत करके कुछ निष्कर्ष निकाले. मुख्यत: जो निष्कर्ष था वो एक निष्पक्ष जांच का था.”

संबित पात्रा

ADVERTISEMENT

संबित पात्रा ने राहुल गांधी पर बोला हमला

संबित पात्रा ने कहा, “पोस्टमॉर्टम पर किसी ने अगर सवाल नहीं उठाए, तो राहुल गांधी उसके विशेषज्ञ न होने के बाद भी उस पर भ्रम फैलाकर वातावरण को अशांत करने की कोशिश कर रहे हैं. गांधी परिवार का किसानों से कोई लेना देना नहीं है. गांधी परिवार का केवल अपने परिवार से ही लेना देना है.”

संबित पात्रा ने कहा, “राहुल जी आप जो वोटों की खेती करने का प्रयास कर रहे हैं, इससे आप बचिए. देश में सबसे महत्वूपर्ण विषय है शांति की स्थापना. हिंसा न हो, शांति रहे, हम विकास के पथ पर अग्रसर हों, हर जिम्मेदार राजनीतिक पार्टी का ये कर्तव्य है.”

संबित पात्रा ने राजस्थान में ‘किसानों पर हुए लाठीचार्ज’ का उठाया मुद्दा

उन्होंने कहा, “राजस्थान में धान की खरीदी के लिए कुछ किसान प्रशासन के सामने गए थे, उन पर लाठीचार्ज किया गया, वो किसान आज अस्पताल में भर्ती हैं, क्या राहुल गांधी जी ने इस पर राज्य के मुख्यमंत्री से बात की? राहुल गांधी लखीमपुर खीरी जाना चाहते हैं, पर क्या उन्होंने राजस्थान के किसानों की चिंता की?”

ADVERTISEMENT

क्या है लखीमपुर हिंसा मामला?

यूपी के लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में रविवार को भारी हिंसा हुई. यूपी पुलिस के मुताबिक, इस हिंसा में कुल 8 लोगों की मौत हुई है. हिंसा की यह घटना तिकुनिया से 4 किलोमीटर दूर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पैतृक गांव बनवीरपुर में आयोजित कुश्ती कार्यक्रम में यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के पहुंचने से पहले हुई.

संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक, प्रदर्शनकारी किसान केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम का शांतिपूर्ण तरीके से विरोध कर रहे थे. मोर्चा ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा के गाड़ियों के काफिले ने किसानों को रौंदा और फायरिंग भी की गई. बताया जा रहा है कि यह काफिला डिप्टी सीएम को रिसीव करने के लिए आ रहा था.

इस मामले में आशीष मिश्रा ने दावा किया है कि घटना के वक्त वह काफिले की गाड़ियों में मौजूद नहीं थे. इसके साथ ही आशीष ने दावा किया है, ”हमारे कार्यकर्ता डिप्टी सीएम को रिसीव करने जा रहे थे, जैसे ही वो लोग तिकुनिया से निकले, तो अपने आप को किसान कहने वालों ने आक्रमण कर दिया.”

लखीमपुर खीरी: राहुल बोले- मैं 2 CM के साथ जा रहा यूपी, 3 लोगों पर धारा 144 लागू नहीं होती

follow whatsapp

ADVERTISEMENT