गणेश उदासीन अखाड़े के महंत राजेश मिश्रा बोले- नरेंद्र गिरि की मौत एक बड़ी साजिश

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की प्रयागराज में संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के बाद धर्म-आध्यात्म से जुड़े कई लोग अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. अब इस मामले में आजमगढ़ के गणेश उदासीन अखाड़े से जुड़े महंत राजेश मिश्रा ने कई सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा है कि महंत नरेंद्र गिरि की मौत रहस्मय है और यह एक बड़ी साजिश लग रही है. उन्होंने कहा कि नरेंद्र गिरि बड़े मजबूत दिल के थे और वह सुसाइड नहीं कर सकते हैं.

महंत राजेश मिश्रा ने कहा कि उन्हें सीएम योगी आदित्यनाथ पर भरोसा है कि वह मामले की सही जांच करवाएंगे. उन्होंने कहा, “नरेंद्र गिरि जी से कई बार मेरी बातचीत होती थी, उनके मेरे साथ व्यक्तिगत संबंध अच्छे थे.” उन्होंने कहा कि नरेंद्र गिरि बड़े अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष थे और उन्होंने बड़ी लड़ाई लड़कर साधुओं की साख बचाई थी.

नरेंद्र गिरि ने नकली साधुओं के खिलाफ कार्रवाई की: मिश्रा

महंत राजेश मिश्रा ने कहा, “मैं नरेंद्र गिरि जी की मौत पर बहुत दुखी हूं. नरेंद्र गिरि जी ने सुसाइड नोट में क्या लिखा है यह तो जांच का विषय है. 70 साल से ज्यादा उम्र होने के बावजूद संत होते हुए भी वह ऊर्जावान थे, कोई बैठक नहीं छोड़ते थे और साधु-संतों की चिंता करते थे.” महंत राजेश मिश्रा के मुताबिक, नरेंद्र गिरि ने नकली साधुओं और मठों पर बड़ी कार्रवाई कर अहम भूमिका निभाई थी. महंत राजेश मिश्रा ने मांग करते हुए कहा कि नरेंद्र गिरि के विरोधियों को भी पुलिस दायरे में लेकर जांच करे.

नरेंद्र गिरि राम जन्मभूमि के मुद्दे पर समझौता नहीं करते थे

महंत राजेश मिश्रा ने कहा कि मंदिर या उनकी पीठ पर अखिलेश यादव समेत अन्य राजनीतिक दल के लोग आते थे. उन्होंने कहा कि नरेंद्र गिरि किसी राजनीतिक दल से नहीं बंधे थे, लेकिन राम जन्मभूमि के मुद्दे पर वह समझौता नहीं करते थे.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

उन्होंने कहा, “सीएम योगी तो खुद एक पीठाधीश्वर हैं, मैं समझता हूं कि वह इस मामले को गंभीरता से देख रहे होंगे. उनके रहते हुए यह मामला हल हो जाए और हम लोगों को भी जल्दी पता चले कि इस मामले के पीछे क्या कारण था.”

यह खबर यूपी तक के साथ इंटर्नशिप कर रहीं रोशनी ने संपादित की है.

ADVERTISEMENT

शिष्य निर्भय द्विवेदी का दावा- ‘आत्महत्या’ से पहले महंत नरेंद्र गिरि ने वीडियो भी बनाया

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT