window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

प्रयागराज में रोबोट कर रहा मेनहोल की सफाई, ऐसा नजारा नहीं देखा होगा आपने

आनंद राज

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Prayagraj News: प्रयागराज में बारिश की वजह से होने वाले जलभराव से निपटने के लिए नगर निगम और जलकल विभाग ने अभी से ही मेनहोल (सीवर लाइन) की सफाई शुरू कर दी है, ताकि पानी की निकासी पूरी तरीके से चालू रहे. लिहाजा हर मोहल्लों के मेनहोल की साफ सफाई का काम जलकल विभाग विशेष तरीके से कर रहा है. बता दें कि स्मार्ट सिटी घोषित होने के बाद प्रयागराज आधुनिकता की ओर बढ़ता जा रहा है. इसी क्रम में यहां मेनहोल की सफाई अब विशेष रोबोट के द्वारा कराई जा रही है. रोबोट की खासियत यह है कि इसमें कैमरे लगे हैं, जो मेनहोल के अंदर जाकर गंदगी के फुटेज स्क्रीन पर दिखाते हैं. साथ ही अंदर कितनी गैस है, रोबोट इसका भी पता लगाता है.

आपको बता दें बारिश के समय प्रयागराज के कई इलाके बारिश होने के बाद पानी से जलमग्न हो जाते हैं, जिसकी वजह से लोगों को आने जाने में दिक्कत होती है. अगर सड़कें खराब होती हैं, तो इन सड़कों के गड्ढों में पानी भर जाता है, जो बारिश के पानी की वजह से पता नहीं चलता. इसी वजह से कई प्रकार की घटनाएं भी सामने आ जाती हैं.

इस बार बारिश से पहले लोगों को बारिश से होने वाले जलभराव से निजात दिलाने के लिए जलकल विभाग प्रयागराज के अधिकतर इलाकों में मेनहोल (सीवर लाइन) की सफाई कर रहा है. ताकि इलाकों के मेनहोल की मेन लाइन में गंदगी को निकाल कर बाहर किया जा सके और पानी का पूरी तरीके से सप्लाई आगे तक हो सके. इसी वजह से मेनहोल को रोबोट के जरिए साफ किया जा रहा है, जिसके लिए कई मजदूर और एक इंजीनियर रोबोट के साथ मौजूद हैं.

रोबोट द्वारा सफाई से पहले होते थे हादसे!

दरअसल, बारिश से पहले नाली और मेनहोल की सफाई की जाती है, ताकि आम आदमी को बारिश से होने वाले जलभराव से निजात दिलाई सके जा सके, क्योंकि मेनहोल में कूड़ा-करकट गंदगी रहती है, तो बहने वाला पानी का एक जगह जमा हो जाता है. इस वजह से बारिश के समय जलभराव हो जाता है. पहले जब रोबोट नहीं था, तो कई बार इन मेलहोल में सफाई के दौरान मजदूरों की मौत की बात सामने आई थी. इसमें प्रयागराज के प्रीतम नगर इलाके में कई साल पहले तीन मजदूरों की मेनहोल की सफाई के दौरान मौत हो गई थी.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

रोबोट से हो रही डिजिटल सफाई

वहीं, रोबोट के साथ मौजूद इंजीनियर का कहना है इससे तकनीकी रूप से फायदा है. पहली बात तो यह डिजिटल तरीके से सफाई हो रही है. और और इस बार बारिश से होने वाले जलभराव को दूर करने के लिए बारिश से पहले मेनहोल की सफाई की जा रही है.

 

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT