window.googletag = window.googletag || { cmd: [] }; let pathArray = window.location.pathname.split('/'); function getCookieData(name) { var nameEQ = name + '='; var ca = document.cookie.split(';'); for (var i = 0; i < ca.length; i++) { var c = ca[i]; while (c.charAt(0) == ' ') c = c.substring(1, c.length); if (c.indexOf(nameEQ) == 0) return c.substring(nameEQ.length, c.length); } return null; } googletag.cmd.push(function() { if (window.screen.width >= 900) { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-1').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_728x90', [728, 90], 'div-gpt-ad-1702014298509-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Desktop_HP_MTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1702014298509-3').addService(googletag.pubads()); } else { googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_ATF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-0').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-1_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-2').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-2_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-3').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_MTF-3_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-4').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_BTF_300x250', [300, 250], 'div-gpt-ad-1659075693691-5').addService(googletag.pubads()); googletag.defineSlot('/1007232/UP_tak_Mobile_HP_Bottom_320x50', [320, 50], 'div-gpt-ad-1659075693691-6').addService(googletag.pubads()); } googletag.pubads().enableSingleRequest(); googletag.enableServices(); if (window.screen.width >= 900) { googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-1'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1702014298509-3'); } else { googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-0'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-2'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-3'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-4'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-5'); googletag.display('div-gpt-ad-1659075693691-6'); } });

अपराधी के यहां रह रहे अतीक के बेटे, बनी हुई है पुलिस की नजर, मां शाइस्ता करेगी इनसे संपर्क?

यूपी तक

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

Atiq Ahmed: माफिया अतीक अहमद (Atiq Ahmed) और उसके भाई अशरफ की हत्या हो चुकी है. अतीक के एक बेटे असद को पुलिस ने एनकाउंट में मार दिया है. अतीक के अन्य 2 बड़े बेटे जेल में बंद हैं और कानून के शिकंजे में फंस चुके हैं. मगर अतीक के 2 नाबालिग बेटे बाल सुधार गृह में थे. अब जब वह बालिग हो गए हैं तो उन्हें बाल सुधार गृह से छोड़ दिया गया है. अब अतीक के ये दोनों बेटे अपनी बुआ यानी अतीक की बहन के यहां रह रहे हैं. 

बता दें कि अतीक के बेटे एहजम और आबान प्रयागराज के हटवा में अपनी बुआ के यहां रह रहे हैं. यहां वह दोनों अपने रिश्तेदार अरशद के यहां रह रहे हैं. बता दें कि अतीक के दोनों बेटे जिस अरशद के यहां रह रहे हैं, वह खुद अपराधी है. उसका बेटा भी अपराधी है. 

अतीक के बेटों के आने से हटवा में पसरा सन्नाटा

बता दें कि जब से अतीक अहमद के दोनों बेटे हटवा गांव आए हैं, तभी से गांव में अजीब सा सन्नाटा पसरा हुआ है. ग्रामीण भी इसको लेकर कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं हैं. काफी कोशिश करने के बाद UP Tak की टीम के साथ कुछ गांव वालों ने इस मामले को लेकर बात की. मगर फिर भी खुलकर कोई कुछ बोलने के लिए तैयार नहीं है. 

ग्रामीणों का कहना है कि अतीक अहमद के दोनों लड़के यहां रह रहे हैं. मगर वह कभी घर से बाहर नहीं निकले. उनकी सुरक्षा के लिए 2 गनर भी हैं.  ग्रामीणों का कहना है कि जब से अतीक अहमद के दोनों लड़के यहां रहने आए हैं, उसके बाद से वह घर से भी बाहर नहीं निकले हैं. वह जिस घर में आए हैं, उसी में रह रहे हैं. किसी ग्रामीण ने उन्हें घर से बाहर आते हुए नहीं देखा है. 

हटवा पर पुलिस की नजर

आपको बता दें कि जब से अतीक अहमद के दोनों बेटे हटवा गांव आए हैं, तभी से पुलिस की नजर एक बार फिर इस गांव की तरफ है. दरअसल,. पुलिस अतीक अहमद के इन दोनों बेटों पर लगातार नजर रख रही है. ये दोनों किस-किस से मिलते हैं? कौन-कौन इनसे मुलाकात करता है? पुलिस की हर बात पर नजर बनी हुई है. दरअसल पुलिस को शक है कि अतीक के गुर्गे इन दोनों से मुलाकात कर सकते हैं. दूसरी तरफ पुलिस को इन दोनों की सुरक्षा की भी चिंता है. ऐसे में पुलिस किसी भी तरह की लापरवाही नहीं बरत रही है. यहां तक की पुलिस सिविल ड्रेस में भी गांव में मौजूद है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

क्या मां शाइस्ता करेगी बच्चों से संपर्क?

माफिया अतीक और अशरफ की मौत से पहले से ही अतीक की पत्नी शाइस्ता फरार चल रही है. अतीक-अशरफ की मौत पर भी शाइस्ता और जैनब नहीं आई. पुलिस ने शाइस्ता के ऊपर इनाम भी रखा हुआ है. मगर अब पुलिस को उम्मीद है कि शाइस्ता किसी तरह अपने इन दोनों बेटों से संपर्क करने की कोशिश करेगी. 

दरअसल अतीक के अन्य 2 बेटे जेल में बंद हैं. उनसे संपर्क करना शाइस्ता के लिए काफी मुश्किल था. ये दोनों बेटे बाल सुधार गृह में बंद थे. इन दोनों से भी मां शाइस्ता संपर्क नहीं कर पाई. मगर अब जब अतीक के दोनों छोटे बेटे बाल सुधार गृह से बाहर आ गए हैं तो पुलिस को उम्मीद है कि शाइस्ता किसी ना किसी तरह से इन दोनों से संपर्क करने की कोशिश करेगी. इसी दौरान पुलिस शाइस्ता तक पहुंचने की कोशिश करेगी.

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT