गाजीपुर: विमान हादसे में मृतक युवकों के परिजन नेपाल के लिए रवाना, डीएम ने बताई ये वजह

ADVERTISEMENT

UPTAK
social share
google news

नेपाल विमान हादसे में गाजीपुर के 4 युवकों की हुई मौत मामले में शोकाकुल परिवार नेपाल के लिए रवाना हो गए हैं. सभी मृतकों के परिजनो को गाजीपुर के कासिमाबाद से सड़क मार्ग से डीएम के निर्देश पर एडीएम अरूण कुमार सिंह ने स्थानीय नायब तहसीलदार मजिस्ट्रेट और एक कॉन्स्टेबल के साथ रवाना किया है.

गाजीपुर जिला प्रशासन की तरफ से भेजे गए नायब तहसीलदार के द्वारा सभी फार्मेल्टी पूरा करा कर नेपाल भेजने के बाद बॉर्डर से अधिकारी वापस आएंगे और नेपाल में भारतीय दूतावास के अधिकारियों द्वारा सभी मृतक के परिजनों का सहयोग किया जाएगा.

भारतीय दूतावास से गाजीपुर की डीएम आर्यका अखौरी लगातार संपर्क में हैं. सभी लोग मंगलवार तक नेपाल पहुंचेंगे और वहां पर विमान हादसे के बाद सभी मरने वालों का पहचान के साथ पोस्टमॉर्टम कराया जा रहा है. कुछ डेड बॉडीज की पहचान नहीं हो पाने से यहां से गये परिजनों द्वारा डेड बॉडी की पहचान करा कर शव को सुपुर्द कराया जाएगा.

एडीएम और डीएम दोनों ने ही बताया कि अगर किन्हीं कारणों से डेडबॉडी की पहचान नहीं हो पाई तो डीएनए टेस्ट करा कर पहचान कराई जाएगी और फिर शव को सुपुर्द किया जाएगा. डीएम ने बताया कि मृतकों के आश्रितों के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष से मिलने वाली राशि की फॉर्मेलिटी भी पूरी करा ली गई है, जो शीघ्र ही आश्रितों को सौंपी जाएगी. इसके अलावा जो भी सम्भव मदद होगी सरकार की तरफ से की जाएगी.

मृतकों के आश्रितों को जिला प्रशासन की तरफ से दो गाड़ियों की व्यवस्था कर नेपाल भेज गया है. डेड बॉडीज को पूरी फॉर्मेलटीज कर लाने में 2 से 3 दिन लगने की भी सम्भावना अधिकारियों ने जताई है.

यह भी पढ़ें...

ADVERTISEMENT

बता दें कि मृतक सोनू जायसवाल के वृद्ध पिता और उनके दूसरे बेटे के साथ सभी मृतकों के परिजन और स्थानीय लोग कुल आठ लोग नेपाल सरकार द्वारा भेजे गए हैं. साथ ही कुछ परिजन अपनी कार से भी नेपाल के लिए निकल चुके हैं.

नेपाल प्लेन क्रैश में गाजीपुर के 4 जिगरी दोस्तों की मौत, FB लाइव कर रहे थे तभी हुआ हादसा

ADVERTISEMENT

    follow whatsapp

    ADVERTISEMENT